सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

जन सामान्य लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

भारतीय पुलिस : और जन सामान्य

          पुलिस के प्रति नकारात्मक भाव एक चिंताजनक स्थिति है इस पर ज़रुरत है खुले दिमाग से चिन्तन की 
भारी पुलिस पर लगे आरोपों पर एक नज़र डालें (एक ):-संदेह को सत्य समझ के न्यायाधीश बनने का ज्ञान का इंजेक्शन हमारी ."पुलिस " को भर्ती के दौरान ही लगा दिया जाता है न्यायाधीशों तक के अधिकारों अतिक्रमण का सफ़ाई से करने का हुनर केवल में है. ..  सामाजिक आचरण के अनुपालन कराने के लिए,पुलिस को न्यायाधीश के अधिकार तक पहुंचने की चाहत पर अंकुश लगाये..जाने आवश्यक हैं  (दो) :-भारतीय पुलिस सबसे भ्रष्ट पुलिस है. भारतीय पुलिस का आदमी "संरक्षक " नहीं गुण्डा और लुटेरा होता है. उसमें सम्वेदनाएं नहीं होतीं.हीन नहीं.  (तीन):- भारतीय पुलिस में   नैतिकता का अभाव है. (चार):-कानूनों का उल्लंघन करना उसकी मूल आदत  है .                 इस तरह से पुलिस की नैगेटिव छवि का जन मानस में सामान्य रूप से अंकित है लोग उसे अपनी पुलिस नहीं मानते . यह स्थिति  के लिए देश के लिए चिंतनीय है , यहाँ मेरी राय है कि सामाजिक-मुद्दों के लिए बने कानूनों के अनुपालन के लिए पुलिस को न सौंपा जाए बल्कि पुलिस इन मामलों के निपटा…