इंडो यूएस रिलेशन बनाम पराधीन सपनेहु सुख नाही

#पराधीन_सपने_सुख_नाही
[ वैक्सीन रा मटेरियल आपूर्ति प्रकरण पर त्वरित टिप्पणी ]
भारत के संदर्भ में अमेरिकन डीप स्टेट और #जो_बायडन ने वैक्सीन के लिए रा मैटेरियलस की आपूर्ति के लिए जो प्रतिबंध लगाए थे को लिफ्ट करने का आश्वासन दिया है। परंपरागत मित्र रूस यूरोपीय यूनियन फ्रांस कनाडा ब्रिटेन ऑस्ट्रेलिया सिंगापुर और भारत के बड़ी संख्या में मित्र राष्ट्र जिनमें ईरान यहां तक कि पाकिस्तान भी शामिल है ने मानवता के हित में भारत को #कोविड19 से जुड़ने के लिए जो हाथ बढ़ाए उसे देख कर जो वाइडन प्रशासन को अपनी नीति में बदलाव करना पड़ा। कुछ राष्ट्र ऐसे होते हैं जो आत्म केंद्रित सिद्धांत पर ही चलते हैं। लेकिन दक्षिण एशिया सहित भारत के  दुख को समझने वाले मित्र यहां तक कि मित्र राष्ट्र भी भारत में प्रति 24 घंटे में 200 से अधिक प्रभावित हो रहे मनुष्यों की रक्षा के लिए आगे कदम बढ़ा रहे हैं। एक सामाजिक टिप्पणी कार और मानवतावादी टिप्पणीकार की हैसियत से मुझे वह घटना याद आ रही है जब भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम के लिए क्रायोजेनिक इंजन की तकनीकी आवश्यकता थी। और इसी अमेरिकी डीप सरकार ने ना केवल और सहयोग किया बल्कि रसिया को भी इस बात की धमकी दी थी कि अगर आप ने भारत को यह तकनीकी स्थानांतरित की तो आपको सीक्रेट 5 स्टेटस अलग कर दिया जाएगा। पता नहीं भारत के वैज्ञानिक इतने महान कैसे हैं जिन्होंने अपने प्रयासों से स्वदेशी इंजन का आविष्कार कर ही लिया।
इतना ही नहीं एहसान फरामोश राष्ट्रों को यह समझना चाहिए कि भारत का सूत्र वाक्य विश्व बंधुत्व है ! 
जियो पॉलिटिक्स में इन दिनों वाइडन महाशय और कमला हैरिस एक्सपोज़ हो चुके हैं। परंतु भारत और शेष विश्व का विकास में भाव देखकर इस बार अमेरिका शर्मिंदगी के साथ अपने फैसले को बदलने के लिए बाध्य हुआ।
इतना ही नहीं यह देश अमेरिका फर्स्ट की नीतियों पर चलते हुए केवल भारतीय ही नहीं बल्कि विश्व का चौधरी बने रहने का प्रयास करता है। वर्तमान में अमेरिका ने भारतीय करेंसी को भी ऑब्जरवेशन में रख लिया है। अमेरिकी प्रशासन का यह मानना है कि भारतीय रुपए में कृत्रिम कारणों से अंतरण मूल्यों में कमी की जाती है। मौद्रिक स्थिति को देखते हुए उनकी यह समाज बचकानी प्रतीत होती है। भारतीय करेंसी को इस तरह ऑब्जरवेशन में रखना अमेरिकन विद्वानों के ज्ञान की कमी का सबसे बड़ा उदाहरण है। अर्थशास्त्र के विद्यार्थी का होने के नाते इस करेंसी ऑब्जरवेशन की निंदा करता हूं।
डोनाल्ड ट्रंप का प्रशासन कैसा भी हो पर उनके कार्यकाल में भारतीय अर्थव्यवस्था को एक सकारात्मक स्थान मिला है। अमेरिकी चुनाव के पूर्व हम ऐसे फैसलों की कल्पना कर चुके थे जो भारत के हितों के विपरीत हो। जो वायडन एवं कमला हैरिस का इतिहास देखा जाए तो भी एक ऐसे चिंतन से सरोकार रखते हैं जो भारत के सापेक्ष नहीं है।

टिप्पणियां