सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

कन्फ्यूज़्ड बचपन (हास्य व्यंग्य)

*1960 से 1980 तक जन्मे*
इस श्रेणी के बच्चे कन्फ्यूजन की सीमाओं से आगे तक कन्फ्यूज़ड थे। पिटने के बाद पता चलता था कि हम क्यों पीटे गए थे । हमारे गाल पिटते पिटते *गलवान* तथा पीठ  पिटते पिटते *शक्ति पीठ* बन गईं हैं ।
हमाये शरीर मैं भगवान ने सुनने के लिए कान दिए हैं। लेकिन हमारे पेरेंट्स ने इन्हें दवा दबाकर विकासशील बना दिया है अभी तक पूर्ण विकसित नहीं हो पाए हैं।
गदेलियां तो मास्साब ने छड़ी पड़े छम छम विद्या एक घमघम  के सूत्र वाक्य को प्रूफ करने में प्रयोग में लाई गई । हम 1960 से लेकर 1980 तक की पैदाइशें पप्पू गुड्डू टिंकू मुन्ना छोटे गुड्डू बड़े गुड्डू छोटा पप्पू बड़ा पप्पू आदि नाम से अलंकृत हो जाते थे । 
  कई बार तो भ्रम होता था हम मनुष्य प्रजाति में हैं या गधा प्रजाति के प्राणी है क्योंकि जिसे देखो वह हमें गधा घोषित करने पर पूरी ताकत लगा देता था।
    हमारे दौर में ट्यूशन सिर्फ गधे बच्चे पढ़ने जाते थे। अपने आप को होशियार बताने के चक्कर में 19 का पहाड़ा आज तक याद नहीं कर पाए पर रट्टा बकायदा मारा करते थे।
  हमारी एक बुआ जी थी उन्हें तो ऐलान कर दिया था कि पढ़ेगा लिखेगा नहीं तो इसकी शादी भैंस से कर देंगे । अब भैंस से शादी ना हो इस डर से रट्टा जोर से मारते थे । 
  कंचा भंवरा गपनी  और बेवजह आवारागर्दी करते अगर बाबूजी ने देख लिया तो समझो कयामत का दिन वही था। बाद में जाकर पता चला कि कयामत का दिन इतनी जल्दी नहीं आने वाला। कयामत का दिन अल्लाह ताला डिसाइड करेंगे। असलम ने बताया था तब फिर अपन थोड़ा निडर होने लगे।
   हम क्या देखेंगे क्या नहीं देखेंगे हमें क्या करना है हमें क्या खाना है इसका डिसीजन हमें नहीं करना चाहिए यह हमें सख्त हिदायत थी। फिर भी हमने बड़े भाई साहब कहानी को बड़े ध्यान से पढ़ा अरे हां वही कहानी जिसमें बड़े भाई साहब बाद में कनकव्वा उड़ाने चल पड़ते हैं। कहानी पढ़ने के बाद हमने महसूस किया कि हमसे ज्यादा कष्ट तो हमारे पूर्वज भोग चुके हैं हो सकता है हमारे मां-बाप भी यही भोग चुके हैं तभी तो ऐसी रिवायत चली आ रही है...!
और फिर हम शांत हो जाते । रईसजादों से दोस्ती करना वर्जित विषय था। हां मध्यमवर्गीय और हमसे लोअर क्लास के बच्चों से मित्रता में कोई रुकावट की योजना नहीं थी । और यहीं से शुरू होता है समाज की प्रगतिशील का आरंभ क्योंकि जातिभेद से परे ले जाता यह दृष्टिकोण माता पिता की आदर्श भावना को परिभाषित करता था। उनका यह कहना होता था कि बाहर से जब घर आओ तो हाथ पैर अवश्य धो लिया करो।
 आठवीं क्लास में जाकर फुल पैंट नसीब हुई उसकी वजह थी की फुल पैंट बनवाने में ज्यादा खर्च लगता है। फुल पेंट से याद आया कि गुप्ता जी के बच्चे बिल्लोरे जी के बच्चे शुक्ला जी के बच्चे जैन साहब के बच्चे अलग अलग पहचान में आ जाते थे।  शर्ट के मामले में तो कम से कम यह कहा जा सकता था कि -" लगता है बच्चों को थान पर लिटा कर बापू जी ने दर्जी से कपड़ा कटवा दिया।
 पेंट तो सामान्यतः काली या डार्क कलर की होती थी और शर्ट जिसे बुश शर्ट कहते थे वह हर परिवार के अलग-अलग रंग के रहते थे। गुप्ता जी के बच्चे स्लेटी कलर के कपड़े पहनते थे तो बाकी अन्य बच्चों के रोज पहने जाने वाले कपड़े अलग-अलग रंगों के परिवार के मुखिया के डिसीजन पर आधारित से हुआ करते थे। 
        कल ही इंजीनियर वरिष्ठ मित्र संजय त्रिपाठी बता रहे थे पिताजी कपड़ों को ढीला बनवाते थे और अगर दादाजी आ गए तो कुछ ढीला और करवा देते थे खास तौर पर शर्ट की बाहें पेंट की कमर पेंट की लंबाई आदि आदि। अब फुल साइज की लंबे बाहों का उपयोग बांह ढांकने के लिए तो होता ही था, पर सर्दियों में बड़ी लाभकारी सिद्ध होती थी । अब आप समझदार हैं रुमाल तो तब हुआ नहीं करते थे वैकल्पिक रुमाल के रूप में आस्तीन से बेहतर और क्या हो सकता था ?
  मजेदार बात यह हुई की एक हुनरमंद टेलर ने हमसे हमारी पुरानी हाफ पेंट मंगाई मामला गोसलपुर का है। एक पेंट का पीछे वाला हिस्सा खराब था जिसे आप दक्षिणावर्त्य कह सकते हैं वैसे हम उसे अपनी सुविधा के लिए अंग्रेजी में साउथ एवेन्यू मॉल कहते हैं। 
  तो सुनिए उस कलाकार टेलर मास्टर ने दोनों पेंट के बेकार हिस्सों को अलग अलग कर दिया और सुरक्षित बचे हिस्सों को एक साथ जोड़ दिया और यह कपड़ों के मामले में मेरी जिंदगी का अनूठा इन्वेंशन था। और जब मित्रों ने पूछा है ऐसा क्यों..!
हमने बता दिया यह फैशन आने वाली है और हमारे टेलर मास्टर ने बताया है कि भविष्य में राजेश खन्ना ऐसे ही कपड़ों में नजर आएंगे। बात आई गई हो गई ना तो राजेश खन्ना उस तरह की पैंट पहन कर आए ना ही पेंटल जूनियर महमूद ने कभी दो रंग वाली वैसी पैंट पहनी। टेलर मास्टर का इन्वेंशन उसी डिजाइन के बाद समाधि में विलीन हो गई।
        उस समय बच्चे जूते नहीं पहनते थे। उन दिनों केवल में दो  आर्थिक स्तर होते थे एक गरीब और एक अमीर । इस तरह बच्चे भी दो भाग में विभक्त थे ।
    गरीब बच्चे सामान्य स्लीपर जिसे आप हवाई चप्पल कहते हैं कहते हैं और जिनके मां बाप थोड़ा आर्थिक स्थिति से मजबूत थे उनके बच्चे करोना या बाटा के स्लीपर पहनते थे। घड़ी तो घर में दो थी एक अलार्म घड़ी जो रेडियो के ऊपर रखी रहती थी ।  दूसरी रिस्टवाच जो हमारे पिताजी के हाथ में जो शायद किसी को बाद में देनी पड़ी थी। परिवार की ही एक सदस्या ने भैया से कहा था- तुम्हारे तो #फादरअली के पास भी टाइम पास नहीं है । उस दिन बाबूजी , बाबू जी से फादरअली हो गए शब्द तो मजेदार था लेकिन जिस मुंह ने उसे व्यक्त किया  वह मुंह मसूर की दाल की भी काबिल नहीं है । जुबान से निकली बात न वो वापस ग्रहण कर पाई और ना हमने ऐसा होने दिया।उस दिन हमने तय कर लिया था कि अब हम वह हासिल करेंगे जो तुम यानी अपमानित करने वाले लोग जिंदगी भर हासिल नहीं कर सकते। 
    तब हमें पता चला की जिंदगी में किसी भी तरह का कन्फ्यूजन नहीं होना चाहिए।
कुछ बड़ा होने पर एक शब्द गूंजता था पार्थ युद्ध करो जीवन का हर पल युद्ध है, जीवन युद्ध है जो दुनिया रूपी इस कुरुक्षेत्र से होता रहता है  किससे कोई नहीं बचता। जीवन के इस कुरुक्षेत्र में वही विजेता होता है जो अहर्निश युद्ध करता है ऐसा युद्ध जो रक्त नहीं बहाता परंतु युद्ध रत पार्थों का जीवन उजला बनाता है। 
     
*गिरीश बिल्लोरे मुकुल*

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

क्यों लिखते हैं दीवारों पर - "आस्तिक मुनि की दुहाई है"

सांपों से बचने के लिए घर की दीवारों पर आस्तिक मुनि की दुहाई है क्यों लिखा जाता है घर की दीवारों पर....! आस्तिक मुनि वासुकी नाम के पौराणिक सर्प पात्र की पुत्री के पुत्र थे । एक बार तक्षक से नाराज जनमेजय ने सर्प यज्ञ किया और इस यज्ञ में मंत्रों के कारण विभिन्न प्रजाति के सांप यज्ञ वेदी संविदा की तरह आ गिरे । तक्षक ने स्वयं को बचाने के लिए इंद्र का सहारा लिया तो वासुकी ने ऋषि जगतकारू की पत्नी यानी अपनी बहन से अनुरोध किया कि पृथ्वी पर रहने वाले सभी सांपों की रक्षा कीजिए और यह रक्षा का कार्य आपके पुत्र मुनि आस्तिक ही कर सकते हैं । अपने मामा के वंश को बचाने के लिए आस्तिक मुनि जो अतिशय विद्वान वेद मंत्रों के ज्ञाता थे जन्मेजय की यज्ञशाला की ओर जाते हैं । किंतु उन्हें सामान्य रूप से यज्ञशाला में प्रवेश का अवसर पहरेदार द्वारा नहीं दिया जाता । किंतु आस्तिक निराश नहीं होते और वे रिचाओं मंत्रों के द्वारा यज्ञ के सभी का सम्मान करते हैं । जिसे सुनकर जन्मेजय स्वयं यज्ञशाला में उन्हें बुलवा लेते हैं । जहां आस्तिक मुनि पूरे मनोयोग से यज्ञ एवं सभी की स्तुति की जैसे जन्मेजय ने उनसे वरदान मांगने की

स्व.श्री हरिशंकर परसाई का एक व्यंग्य: " अपनी-अपनी हैसियत "

परसाई जी का दुर्लभ छाया चित्र फ़ोटो : स्व०शशिन यादव  हरिशंकर परसाई  ( २२ अगस्त ,  १९२२  -  १० अगस्त ,  १९९५ ) हिंदी के प्रसिद्ध लेखक और व्यंग्यकार थे। उनका जन्म जमानी ,  होशंगाबाद ,  मध्य प्रदेश   में हुआ था। वे हिंदी के पहले रचनाकार हैं जिन्होंने व्यंग्य को विधा का दर्जा दिलाया और उसे हल्के – फुल्के मनोरंजन की परंपरागत परिधि से उबारकर समाज के व्यापक प्रश्नों से जोड़ा। उनकी व्यंग्य रचनाएँ हमारे मन में गुदगुदी ही पैदा नहीं करतीं बल्कि हमें उन सामाजिक वास्तविकताओं के आमने – सामने खड़ा करती है , जिनसे किसी भी व्यक्ति का अलग रह पाना लगभग असंभव है। लगातार खोखली होती जा रही हमारी सामाजिक और राजनॅतिक व्यवस्था में पिसते मध्यमवर्गीय मन की सच्चाइयों को उन्होंने बहुत ही निकटता से पकड़ा है। सामाजिक पाखंड और रूढ़िवादी जीवन – मूल्यों की खिल्ली उड़ाते हुए उन्होंने सदैव विवेक और विज्ञान – सम्मत दृष्टि को सकारात्मक रूप में प्रस्तुत किया है। उनकी भाषा – शैली में खास किस्म का अपनापा है , जिससे पाठक यह महसूस करता है कि लेखक उसके सामने ही बैठा है। ( साभार विकी )          परसाई जी की रचनावलियों

भारत रत्न पंडित बिस्मिल्लाह खान को नमन

        25-26 जून 2019 की रात मैं बिस्मिल्लाह खां के बारे में सोच रहा था....अचानक जाने कहां से मेरे  सामने बिस्मिल्ला खां साहब नमूदार हो गए मेरे ज़ेहन में...? मेरी दृष्टि में हर कलाकार गंधर्व होता है । जो कहीं भी कभी भी आ जा सकता है और इन गंधर्वों के बारे में कुछ भी कहना उस निरंकार सत्ता पर सवाल उठाना मेरे जैसे अदना लेखक के लिए तो ठीक वैसा ही है जैसे सूरज को लालटेन दिखाकर यह बताना कि तुम इस रास्ते से चलो...!    सुधि पाठक जानिए कि बिहार के किसी गांव में 21 मार्च 1913 को जन्मे उस्ताद बिस्मिल्लाह खां साहब के बारे में लिखने के बात मैंने  शीर्षक यानी आलेख टांगने की खूंटी खोजी ।   मैंने पंडित बिस्मिल्लाह खान लिखा है कट्टर पंथी मुझ पर निशाना साधेंगे  पर जानते हो आप हमने ऐसा क्यों किया उस्ताद को पंडित लिखा ? ऐसा इसलिए किया  क्योंकि जब मैं शीर्षक लिखने के बारे में सोच रहा था तो यह सोचा कि नहीं वे मज़हबी एकता यानी असली सेक्युलरिज्म के सबसे बड़े पैरोकार आईकॉन हैं । उस्ताद बिस्मिल्लाह खान के गुरु उनके नाना अली बख्श साहब हुआ करते थे और भी गंगा के पंच घाट के पास बनी एक कोटरी में रियाज किया करते