सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

मार्च, 2020 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

रवीश कुमार की समस्या :रामायण का प्रसारण

Ravish Kumar नामक व्यक्ति को दूरदर्शन पर रामायण का प्रसारण फिर से एक बार जनता की मांग पर किया। पता नहीं रवीश जी के पेट में अजीब अजीब सी हरकतें होने लगी जैसी अपच में होती है और दोपहर होते-होते तक मामला वोमिटिंग तक पहुंच गया। कोरोना वायरस वहीं से आया है, जहां से इन भाई साहब को विचारों की खेती करने के लिए बीच मिलते हैं। तकनीकी भी वहीं से मिलती है खेती करने की। यह श्रीमान मात्र 45 साल की उम्र के हैं 74 में इनका जन्म हुआ है परंतु मैग्सेसे अवार्ड पाने के बाद पता नहीं इतने हल्के हो गए हैं कि इन्हें किसी भी व्यक्ति का समुदाय का चिंतन का कोई प्रभाव नहीं पड़ता। इनका किसी से कोई भी राजनैतिक रिश्ता अच्छा या बुरा हो सकता है, उससे हमें कोई लेना-देना नहीं हमें लेना देना इस बात से है कि आज से जनता की मांग पर श्री राम के जीवन पर आधारित रामायण का प्रसारण क्या हुआ भाई साहब आज दोपहर की नींद सोए नहीं। और सोते भी कैसे रक्ष संस्कृति के संवाहक के रूप में इनकी कदाचित जिम्मेदारी बढ़ जाती है कि ये उसका विरोध करें। विरोध इनकी मूल प्रकृति में है। बिहार मोतिहारी के जन्मे दिल्ली यूनिवर्सिटी से पढ़ लिख कर रोटी

*मध्यवर्ग की आवाज सुनने के लिए धन्यवाद*

भारत सरकार ने मध्यमवर्ग की आवाज जिस तेजी से सुनी उसे लगा कि सरकार ने उम्मीद से अधिक कर दिया । जिस तरह से बैंकों की रेपो रेट में गिरावट बैंक की लिक्विडिटी बढ़ाई है तो सीआरआर का 1 परसेंट कम हो जाना भी अर्थव्यवस्था के लिए महत्वपूर्ण हो जाता है इससे सीधा लाभ मध्यमवर्ग को मिलना सुनिश्चित है। वर्तमान परिदृश्य में सारे प्रश्न हल हो चुके हैं किंतु ई एम आई में प्रीमियम का स्थगन स्पष्ट नहीं है। दिन भर मित्रों से चर्चा के बाद सबके मन में एक ही आशंका है कि क्या बैंक स्थगित प्रीमियम एक साथ वसूलेंगी अथवा लोन की अवधि बढ़ेगी? बढ़ी हुई अवधि में ब्याज की स्थिति क्या होगी यह भी आरबीआई के द्वारा स्पष्ट नहीं किया गया है? यद्यपि यह 2 सवाल के संदर्भ में विश्वास कि सरकार और रिजर्व बैंक इस पर शीघ्र ही स्पष्ट हो जावेगी। मित्रों मध्यवर्ती आवाज इतना जल्दी कभी नहीं सुनी गई जितना की आज सुनी गई है इसके लिए रिजर्व बैंक और भारत सरकार को साधुवाद देना ही होगा। ऐसे समय में इंश्योरेंस कंपनियों के लिए भी सरकार को पृथक से इस आशय के स्पष्ट आदेश जारी करने होंगे जिसमें यह स्पष्ट कर दिया जाए कि उनके प्रीमियम भी स्थगित हों

विश्व रंगकर्म दिवस 2020 : संस्कारधानी जबलपुर में रंगकर्म यात्रा

उन्नति तिवारी सुभद्रा जी की भूमिका में  सुप्रभात मित्रों आज विश्व रंगमंच दिवस विश्व रंगमंच दिवस पर संस्कारधानी जबलपुर के रंगमंच से जुड़े सभी रंग कर्मियों को नमन करता हूं मित्रों भारतीय रंगकर्म भरतमुनि की परंपराओं का वर्तमान स्वरूप है। भारतीय रंगकर्म की लोकप्रियता का मूल आधार है उसका बहु आयामी स्वरूप। ऐतिहासिक समसामयिक पौराणिक राजनीतिक सामाजिक धार्मिक और आध्यात्मिक विषयों पर रंगकर्म की प्रयोग सर्वाधिक दक्षिण एशिया के भारतीय उपमहाद्वीप में ही किए गए। यह एक बहुत बड़ा माध्यम बना। सिनेमा ने इसे रिप्लेस कर दिया लेकिन गर्व है संस्कारधानी पर जिसने रंगकर्म को यथावत जीवित रखा जीवित ही नहीं रखा बल्कि उसमें संवर्धन और परिवर्धन के निरंतर प्रयोग किए गए। अब तो संसाधनों से संपन्न है हमारा थिएटर। अगर मिर्जा साहब के एक शेर पर पैरोडी बनाने को कहा जाए तो मैं कहूंगा हैं और भी दुनिया में थिएटर बहुत अच्छे कहते हैं कि जबलपुर का अंदाज ए बयां और ।।    जी हां जबलपुर थिएटर का एकमात्र बहुत बड़ा विश्वविद्यालय है चल रहा है नहीं दौड़ रहा है काला घोड़ा नाट्य उत्सव ले लीजिए अगर जबलपुर की मौजूदगी वहां नहीं हो

आपदाओं से जूझने हमें चिकित्सा व्यवस्था सुधारनी ही होगी

फिदेल कास्त्रो ने क्यूबा को फ्री शिक्षा और स्वास्थ्य की गारंटी दी थी. कृति हजार जनसंख्या पर 8 चिकित्सक क्यूबा में मौजूद है. जबकि भारत में प्रति हजार के विरुद्ध मात्र पॉइंट 008 चिकित्सक मौजूद है. क्यूबा और भारत की चिकित्सकीय व्यवस्था बेहद बड़े अंतराल के साथ है. बावजूद इसके भारत में उसका अपना आयुर्वेदिक सिस्टम भी संचालित है. आजादी के बाद से आयुर्वेदिक चिकित्सा प्रणाली पर एक लंबी अवधि तक कोई विशेष ध्यान नहीं दिया गया. जबकि इस चिकित्सा प्रणाली को संजीवनी देना इस पर रिसर्च जारी रखना सरकार का दायित्व था. ठीक उसी तरह शिक्षा व्यवस्था पर भी भारत की सोच बेहद लचर और उसके प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण महसूस नहीं किया गया है. लेकिन कम संसाधनों और अच्छी शिक्षा प्रणाली के महंगे होने के बावजूद भारतीय युवा खासतौर पर मध्यमवर्गीय परिवारों से निकला युवा अपने संघर्ष और आत्मशक्ति के बलबूते पर वह सब हासिल कर लेता है जो क्यूबा में वहां का युवा हासिल करता है. सुधि पाठकों आज से कुछ साल पहले जब मैं वैचारिक रूप से शिक्षा और स्वास्थ्य के संबंध में विचार कर रहा था तो मैंने पाया कि वास्तव में भारत को अगर बहुत तेजी से

"Don't Panic" - Aabhas-Shreyas Joshi

  ( This video recorded by Girish billore for district administration Jabalpur ) "Don't Panic" - Aabhas and Shreyas appeal on Corona Virus. Famous singer Abhas and Shreyas Joshi came to Jabalpur to pay tribute To there grandmother late Shrimati Pushpa Joshi. Old old age film artist It was first Holi festival at Jabalpur after Har death. As per DM Jabalpur Mr Bharath Yadav's advice both artist appeal on prevention of coronavirus. Video attached herewith for further necessary action please use this video in Public Interest.