सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

अक्तूबर, 2016 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

*॥ श्री सूक्तम् ॥* (अर्थ सहित)

*_ मंत्र -१ _* *_ ॐ हिरण्यवर्णां हरिणीं सुवर्णरजतस्रजाम्। _* *_ चन्द्रां हिरण्मयीं लक्ष्मीं जातवेदो म आवह॥ (१) _* _ भावार्थः   हे जातवेदा अग्निदेव आप मुझे सुवर्ण के समान पीतवर्ण वाली तथा किंचित हरितवर्ण वाली तथा हरिणी रूपधारिणी सुवर्नमिश्रित रजत की माला धारण करने वाली , चाँदी के समान धवल पुष्पों की माला धारण करने वाली , चंद्रमा के सद्रश प्रकाशमान तथा चंद्रमा की तरह संसार को प्रसन्न करने वाली या चंचला के सामान रूपवाली ये हिरण्मय ही जिसका सरीर है ऐसे गुणों से युक्त लक्ष्मी को मेरे लिए बुलाओ। _ * तां म आवह जातवेदो लक्ष्मीमनपगामिनीम् । यस्यां हिरण्यं विन्देयं गामश्वं पुरुषानहम् ।। (२)* _ भावार्थः हे जातवेदा अग्निदेव आप उन जगत प्रसिद्ध लक्ष्मी जी को मेरे लिए बुलाओ जिनके आवाहन करने पर मै सुवर्ण , गौ , अश्व और पुत्र पोत्रदि को प्राप्त करूँ। _ * अश्वपूर्वां रथमध्यां हस्तिनादप्रमोदिनीम् ।* * श्रियं देवीमुपह्वये श्रीर्मा देवी जुषताम् ।। (३)* _ भावार्थः जिस देवी के आगे और मध्य में रथ है अथवा जिसके सम्मुख घोड़े रथ से जुते हुए हैं , ऐसे रथ में बैठी हुई , हथियो की निनाद स संसार को प

रेडिफ डॉट कॉम की शरारत

इन दिनों वाट्सएप नामक सन्देश प्रसारक पर गीता को राष्ट्रीय ग्रन्थ घोषित कराने की मुहीम जारी कुछ लोग कह रहे हैं ये कई दिनों से जारी है. सुधिजन जानिये ये सन्देश क्या है ..........  मुस्लिमों ने गीता के खिलाफ  60%  वोट डाला है और हिन्दुओ का केवल अभी तक  39%  ही पड़ा है ।   गीता को राष्ट्र ग्रन्थ बनाना हैं लिंक में जाकर वोटिंग करो ।    अब का आकड़ा  yes 53%, no49%,   सब हिन्दु वोट करेंगे तो " YES 80%"  तक हो सकता है ।  ज्यादा से ज्यादा फोर्वर्ड करके वोटिंग करवाए ।  गीता को राष्ट्र ग्रंथ बनवाने के लिए वोटिंग हो रही है आप इस वेबसाईट पर जा कर  yes  पर क्लिक करें ।     http://m.rediff.com/news/vreport/sushma-wants-gita-as-national-book-do-you/20141208.htm इस लिंक को अतिशीघ्र  share  करें                      आपको भ्रमित करने वालों को यह नहीं मालूम की अधिकाँश वोटर वही होंगे जिसे गीता का एक मात्र श्लोक एक हिस्सा मात्र याद है... '' ‘​​ कर्मण्येवाधिकारस्ते मां फलेषु कदाचन ’ . शेष गीता से उसके मांस का दूर दूर तक कोई लेना देना नहीं .                " और फिर गीता जै