अखबार लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
अखबार लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

मंगलवार, फ़रवरी 7

ख़बर नवीसों की नज़र में खबर है..?

साभार: इस ब्लाग से
                  फ़रवरी का महीना आते ही बादलों ने आकाश छोड़ दिया और एकाध दिन के बाद पत्तों ने बिना किसी पूर्व नोटिस के पेड़ों का साथ छोड़ दिया. कुल मिला कर बसंत ने दस्तख दे दी अचानक आए मौसमी बदलाव पे किसी अखबार ने कहा-"उफ़ निरंकुश पारा बिना बताए अचानक ऊपर उठ गया "
पढ़ने वालों को लगा होगा कि बदतमीज़ पारे को इतनी भी तमीज़ नहीं कि   ससुरा पारा उस  अखबार के मेज-वासी खबर नसीब  की नज़र में कोई गुस्ताखी कर चुका हो.
                एक दौर था कि कोई अच्छी बात खबर बनती थी. और अब जब तक तीन-चार साल का बच्चा आपके बाजू में बैठा पोर्न का अर्थ न पूछने लगे  तब तक हज़ूर खबरिया चैनल चिल्ला चिल्ला के बताते रहेंगे-"कर्नाटक का मंत्री पोर्न क्लिप देखते पाया गया.."
बात पंद्रह बरस पुरानी है  कुत्ता एक आदमी को काट चुका था दूसरे की ओर भागा तभी एक आम आदमी ने कुत्ते के मालिक को चिल्लाकर खबर दी -"ज़नाब,अपने कुत्ते को सम्हालिये वरना...."
मालिक ने झट पुकारा-’भोलू, वापस आ ..’
भोलू तो धर्मराज के ज़माने का वफ़ादार था वापस आया दुम हिलाई.. मालिक ने हर आदमी से माफ़ी मांगी जिसे भोलू ने काटा था उसका तो इलाज़ भी कराया.. बात सहजता से निपट गई.. मालिक को कुत्ते की परवरिश का तौर तरीक़ा समझ में आ गया.
       पंद्रह बरस बाद एक पावर-फ़ुल मालिक के कुत्ते के काटने से कई बच्चे घायल हुए खबर न थी उस डेस्क-ब्रांड खबरची के लिये मैने कहा -"भईये.. ऐसी खबर तुमको छापना तो चईये.."
  "ये तो रोजिन्ना की बात है मुकुल बाबू कुत्ते की प्रकृति ही काटना है आपके मुहल्ले में किसी इंसान ने किसी कुत्ते को काटा हो तो बताओ छाप देता हूं..!!"
              अज़ीबोगरीब मापदण्ड हो गये हैं.. खबरवालों के लिये कल ही की तो बात है... नर्मदा जयंति मनाने वालों में वे शुमार न थे जो बारहों महीने बिना कैमरामैन के बग़ैर ग्वारीघाट के तटों को जितना हो सकता है साफ़ करतें हैं. वे भाषण नहीं देते वे गीत एलबम भी नहीं बनाते.. हां सच है वे किसी फ़ोटोअग्राफ़र से फ़ोटो भी नहीं खिंचवाते वे तो सुबह से शाम तक रोटी का इंतज़ाम करते हैं शाम होते होते "माई के घाट" पर हमारे-आपके द्वारा फ़ैलाई गंदगी को साफ़ कर आते हैं..
    बूढ़े किसन से हमने पूछा -"दादा, दूसरों का कचरा आप इस उम्र में काहे उठाते हो..?"
       किसन ने कहा था-"कचरा दूसरे का हो तो हो माई तो अपनी है न.. बाबू...?"
  अक्सर विज़न के अभाव में ऐसी कोशिशें नेपथ्य में चली जाती हैं..
                लोग आज़ सकारात्मकता देख भी नहीं पाते
      

रविवार, जनवरी 2

आठवीं कक्षा का छात्र खुद लिखता व बांटता है अखबार

                                                 लखनऊ। आपने आमतौर पर 12 साल की उम्र के बच्चों को अखबारों के कार्टून वाला पन्ना पढ़ते देखा होगा, लेकिन उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद का एक किशोर इसी छोटी उम्र में सामाजिक मुद्दे उठाने वाला एक अखबार निकाल रहा है। इस अखबार का वह न सिर्फ संपादक है, बल्कि संवाददाता, प्रकाशक और वितरक [हॉकर] भी है। इलाहाबाद के चांदपुर सलोरी इलाके की काटजू कालोनी में रहने वाला उत्कर्ष त्रिपाठी पिछले एक साल से हाथ से लिखकर 'जागृति' नामक चार पृष्ठों का एक सप्ताहिक अखबार निकाल रहा है। वह ब्रज बिहारी इंटर कालेज में आठवीं कक्षा का छात्र है। उत्कर्ष ने बताया कि मैं अखबार के लिए खबरों को एकत्र करने से लेकर उसका संपादन, प्रकाशन और यहां तक कि वितरण तक की जिम्मेदारी खुद उठाता हूं। मजेदार बात यह कि दूसरे अखबारों के पाठकों की तरह 'जागृति' के पाठकों को अपने सप्ताहिक अखबार के लिए एक भी पैसा खर्च नहीं करना पड़ता। उत्कर्ष सबसे पहले हाथ से पाठ्य सामग्री को लिखकर अखबार के चार पन्ने तैयार करता है और बाद में उसकी फोटो कापी करवाकर उसकी प्रतियां अपने पाठकों तक पहुंचाता है। वर्तमान समय में जागृति के विभिन्न आयु वर्ग के करीब 150 पाठक हैं। उत्कर्ष ने बताया कि जागृति के पाठकों में मेरे स्कूल से सहपाठी, वरिष्ठ छात्र, शक्षिक और पड़ोसी शामिल हैं। पढ़ाई के बीच अखबार के लिए समय निकालने के बारे में पूछे जाने पर वह कहता है कि मेरा मानना है कि अगर आपके मन में किसी काम का जुनून है तो आप कितने भी व्यस्त हों, थोड़ा समय निकाल ही लेंगे। उत्कर्ष के मुताबिक उसने अखबार का नाम 'जागृति' इसलिए रखा, क्योंकि उसका मिशन लोगों को उनके हितों के प्रति जागरूक करना है, जो उन्हें प्रभावित करते हैं। वह अखबार के संपादकीय पन्ने पर भ्रूणहत्या, पर्यावरण जैसे सामाजिक मुद्दों को नियमित उठाने का प्रयास करता है। इसके अलावा अखबार में जनकल्याणकारी योजनाओं एवं बच्चों के कल्याण के लिए सरकारी नीतियों के बारे में जानकारी दी जाती है। इसमें प्रेरणात्मक लेख होने के साथ प्रसिद्ध वैज्ञानिकों, कलाकारों, राजनेताओं की सफलता की कहानियां भी होती हैं। उत्कर्ष के मुताबिक वह हर रोज एक घंटा अखबार के लिए समय निकालता है, जिसमें मुद्दों को ढूंढ़ना और तय करना, दैनिक अखबारों, साप्ताहिक ्पत्रिकाओं और इंटरनेट से ज्ञानवर्धक सूचनाएं एकत्र करता है। रविवार के दिन उसे अखबार के लिए ज्यादा समय मिल जाता है। उस दिन वह विभिन्न लेखों के लिए तस्वीरें एकत्र करता है
साभार :- यश भारत जबलपुर  : क्लिक कीजिये पुष्टि हेतु
miniature newspaper pins-front pages (man on moon)