मंगलवार, अगस्त 30

कितना कठिन है रोबो बच्चों का प्रशिक्षण

साभार :- न्यूज़-ट्रैक 
अक्सर  दुखी माता पिता को लेकर चिंतित हो जाता हूँ । चिंता का विषय बच्चे नहीं माँ बाप होते हैं । जो बच्चों के लिए खुद नैसर्किकता से बाहर वाले  काम करते हैं कि बच्चे का यंत्र बन जाना अवश्यंभावी है  जी हां बच्चे  एक मशीन यानी रोबोट बनकर रह गए हैं ।
         एक दिन अपने 10 साल के बच्चे को लेकर एक माता आईँ जिनका कहना था उनके बेटे को बेहतरीन सिंगर बना दूं ।  मोहतरमा की नज़र में बच्चा सर्वगुण संपन्न था । जाने कितनी खूबियाँ पट पट गिना गईं   ।
     मैंने पूछा - बच्चे पर आप कुछ अधिक ध्यान देतीं है
    वे बोलीं - साहब अगर हम इन पर ध्यान न दें तो दुनियां में पिछड़ जाएंगे ।
    कुल मिला के माँ बच्चे में आइंस्टाइन से लेकर सर्वोच्च व्यक्तित्वों तक  सब कुछ का मिश्रण घोल के डालना चाहतीं थीं । विनोद वश हमने पूछा - आप अपने बेटे को कैसा गायक बनाना चाहतीं हैं ?
उत्तर था  एकदम किशोर कुमार जैसा !
ये अलहदा बात है कि ये युग  हनी सिंग का युग  है ।
     उस बच्चे की दिनचर्या देखें तो आप हम  से अधिक बड़ा हो गया है वो सुबह 5 बजे उठता है । 7 बजे स्कूल जाता है 2 बजे लौटता है स्कूल से लंच लेता है । फिर 2:30 घर से ट्यूशन और अभी उसके पास 3 :30 से 5 बजे तक का समय है । *जिसमें उसे किशोर कुमार बनना है*। 6 बजे से उसे फिर होमवर्क करना है । 8 बजे उसे डिनर लेना है । 9 बजे सोएगा वो क्योंकि उसे  5 बजे जागना है । स्कूल उसे पढ़ाएगा,  कोचिंग वाला व्यापारी उसे आइंस्टाइन बनाएगा और अब मैं हाँ भई मैं बालभवन में उसे शिप्रा की मदद से किशोर कुमार बनाऊंगा । सोच रहा था कि ये बच्चा नहीं रोबो है । बिना कुछ विचार किये मैंने कहा मैडम - हम बालभवन  में बच्चों को रजिष्टर्ड करतें हैं रोबो को नहीं ।और फिर चपरासी से कहा   - अरे दादा फ़ार्म मत लाना ।
     बच्चे की माँ के सपने  एकदम अर्रा के गिरी दीवार से ढह गए । अवाक मुझे देख रहीं थीं
फिर मैंने कहा - आप बेटे का विकास रोबोट की तरह करना चाह रहीं हैं उसको लेकर आप बेहद संवेदित हैं  बहुत हद तक आपका बेटा  रोबोट बन भी चुका होगा । रोबोट में भावनाएं कैसे भरेगा बालभवन संगीत बिना भावना के सफल नहीं आपने किसी रोबो को गाते सूना है क्या ?
   अपने बच्चों को रोबोट मत बनाइये वरना उसका बचपन गुम जाएगा ?
  बच्चे का बचपन छीन कर आप क्या करना चाहतीं हैं । अगर आप बच्चे का भला करना चाहतीं हैं तो कल अपने बच्चे और पति के साथ आएं ।
अगले पति सहित मैडम आईं बच्चा भी साथ था मोटे चश्मे  के पीछे झाँकतीं आँखें मासूम पर  थका हुआ डरा हुआ  बचपन मेरे सामने था । मैंने माता पिता को पीछे वाली चेयर्स पर बैठाया बच्चे को अपने सामने बिठा कर बातचीत शुरू की । जवाब देने की कोशिश माता तर् पिता में से कोई एक कर रहा था । जिनको चुप रहने का निवेदन किया । बातों बातों में ज्ञात हुआ क़ि बच्चा चित्रकला सीखना चाहता है । उसने बताया कि वो दीवार और कागज़ पर लकीरों से डॉग हॉर्स ज़ेब्रा डाल आदि बना लेता है । पर सब दीवार पे बनाने के लिए डांटते हैं ।
  बच्चे के पिता से पूछा - इतने बेकार स्कूल में भर्ती क्यों कराया कि ट्यूशन की ज़रुरत पड़े ?
अवाक मुझे ताक रहे थे । मैंने फ़ार्म बच्चे के हाथ में दिया और कहा कल दादाजी से भरवा के उनके साथ आना । पापा मम्मी को अब परेशान मत करना बेटे ।
देखिये कल दादा और पोते आते है या फिर कोई नहीं ? जो भी हो साफ़ साफ़ कह कर एक बचपन बचाने की कोशिश की है अंजाम जो भी होगा कल के आगोश में है ।
शुभ रात्रि
*गिरीश बिल्लोरे मुकुल*

कोई टिप्पणी नहीं: