सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

गुप्त जी की स्मृति में "पत्रकारिता-संस्थान" की स्थापना होनी ही चाहिऐ :प्रो० ए० डी० एन० बाजपेयी

"संस्कार धानी जबलपुर में पत्रकारिता के विकास के विभिन्न सोपानों का जिक्र हुआ , पत्रकारिता के मूल्यों , वर्तमान संदर्भों पर टिप्पणी की गयी अवसर था स्व० हीरा लाल गुप्त मधुकर जी के जन्म दिवस पर उनके समकालीन साथियों को सम्मानित करने का ।" इस अवसर पर मुख्य-अतिथि के रूप में बोलते हुए प्रो० ए० डी० एन० बाजपेयी ने कहा:-"गुप्त जी और ततसमकालिक पत्रकारिता के मूल्य बेहद उच्च स्तरीय रहें है। पत्रकारिता यानी प्रजातंत्र के चौथे स्तंभ के मूल्य भी शेष तीन स्तंभों की तरह चिंतन के योग्य हों गए हैं ।"पत्रकारिता और अधिक जनोन्मुखी हों इस विषय पर गंभीरता पूर्वक चिंतन करना ही होगा । संवेदित भाव से समाचार लेखन और भाव-संवेग से आलेखित समाचार में फर्क होता है। समाज को अब समझदार पत्रकारिता की ज़रूरत है मूल्यवान पत्रकारिता की ज़रूरत है...ताकि समाज को युग को सही दिशा मिल सके ।प्रो० बाजपेयी की अपेक्षा रही कि पत्रकारिता के विकास हेतु अकादमी स्थापित हों।अपने अध्यक्षीय उदबोधन में डाक्टर आलोक चंसौरिया ने संबंधों के निर्वहन में सिद्ध माने जाने वाले गुप्त जी एं सव्यसाची माँ प्रमिला देवी बिल्लोरे को श्रद्धांजलि देते हुए कहा :- "बदलते समय में पत्रकारों को राजनीतिज्ञों का गुरु मार्ग दर्शक एवं हैं इस बात कि पुष्टी हम राजनीतिज्ञ कर सकतें हैं। कलम के सिपाही हमारे सदकार्यों को सराहते हैं । गलतियों पर लताड्तें-डपटतें भी हैं अपनी कलम से । कलम और उसकी ताक़त को कोई भी नहीं नकार सकता ।स्मृति समारोह की ज़रूरत और उसे लगातार वर्ष १९९७ से आयोजन समिति के प्रयास को अद्वितीय निरूपित करते हुए वरिष्ट पत्र-कार डाक्टर राज कुमार तिवारी सुमित्र नें कहा:-"यह समारोह मूल्य के संरक्षकों के प्रति कृतज्ञता का समारोह है।" गुप्त स्मृति सम्मान से सम्मानित पं ० दिनेश पाठक तथा सव्यसाची अलंकरण से अलंकृत विजय तिवारी ने सादगी और सहज जीवन तथा संकल्प को पत्रकारिता का मूल आधार निरूपित किया। मंचासीन अतिथियों में श्री भगवतीधर बाजपेई , काशीनाथ बिल्लोरे विशिष्ठ अतिथि के रूप मी उपस्थित थे।. कार्यक्रम शुभारम्भ अतिथियों द्वारा स्व० हीरा लाल गुप्त एवं स्व० माँ सव्यसाची प्रमिला देवी बिल्लोरे के चित्र पर की पूजन अर्चन से हुआ ।तदुपरांत आलोक वर्मा " मास्टर शक्ति" की संगीत संयोजना में मधुकर जी के गीतों का गायन बाल गायिका श्रद्धा बिल्लोरे ,एवं आदित्य सूद द्वारा किया गया संगीत सहभागिता रमण पिल्लई ने की ।अतिथियों,का स्वागत इन्द्रा पाठक तिवारी , अर्चना मलैया, शशिकला सेन , हरीश बिल्लोरे , सतीश बिल्लोरे , राजीव गुप्ता, अरविंद गुप्ता, डाक्टर विजय तिवारी "किसलय "कहानी मंच की और से रमाकांत ताम्रकार, बसंत मिश्रा आदि ने किया ।गुप्त स्मृति अलंकरण से सम्मानित वयो वृद्ध पत्रकार श्री दिनेश पाठक को शाल श्री फल सम्मान पत्र एवं सम्मानिधि देकर सम्मानित किया गया ।जबकि श्री विजय तिवारी को सव्य साची प्रमिला देवी बिल्लोरे स्मृति सम्मान से नवाजा गया । इस अवसर पर गुप्ता एवं बिल्लोरे परिवारों के सदस्यों के अलावा नगर के विशिष्ठ जन उपस्थित रहे।कार्यक्रम में उपस्थित वरिष्ठ पत्रकार पं.भगवतीधर बाजपेयी , मोहन शशि , श्री श्याम कटारे,राजू घोलप, कवि साहित्यकार श्री राम ठाकुर "दादा" मोइनुद्दीन अतहर , एडवोकेट प्रमोद पांडे , रमेश सैनी, नार्मदीय ब्राह्मण समाज से श्री काशी नाथ अमलाथे, स्व० संग्राम सेनानी मांगी लाल जी गुहा , गोविन्द गुहा , संतोष बिल्लोरे आदि ने पुष्पांजलि अर्पित की ।कार्यक्रम का संचालन राजेश पाठक तथा आभार प्रदर्शन गिरीश बिल्लोरे "मुकुल" ने किया।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

स्व.श्री हरिशंकर परसाई का एक व्यंग्य: " अपनी-अपनी हैसियत "

हरिशंकर परसाई (२२ अगस्त१९२२ - १० अगस्त१९९५) हिंदी के प्रसिद्ध लेखक और व्यंग्यकार थे। उनका जन्म जमानी, होशंगाबादमध्य प्रदेशमें हुआ था। वे हिंदी के पहले रचनाकार हैं जिन्होंने व्यंग्य को विधा का दर्जा दिलाया और उसे हल्के–फुल्के मनोरंजन की परंपरागत परिधि से उबारकर समाज के व्यापक प्रश्नों से जोड़ा। उनकी व्यंग्य रचनाएँ हमारे मन में गुदगुदी ही पैदा नहीं करतीं बल्कि हमें उन सामाजिक वास्तविकताओं के आमने–सामने खड़ा करती है, जिनसे किसी भी व्यक्ति का अलग रह पाना लगभग असंभव है। लगातार खोखली होती जा रही हमारी सामाजिक और राजनॅतिक व्यवस्था में पिसते मध्यमवर्गीय मन की सच्चाइयों को उन्होंने बहुत ही निकटता से पकड़ा है। सामाजिक पाखंड और रूढ़िवादी जीवन–मूल्यों की खिल्ली उड़ाते हुए उन्होंने सदैव विवेक और विज्ञान–सम्मत दृष्टि को सकारात्मक रूप में प्रस्तुत किया है। उनकी भाषा–शैली में खास किस्म का अपनापा है, जिससे पाठक यह महसूस करता है कि लेखक उसके सामने ही बैठा है। (साभार विकी)        परसाई जी की रचनावलियों को टेक्स्ट में आपने देखा किंतु ब्लाग की सहस्वामिनी एवम पाडकास्टर अर्चना चावजी नें इसका पाडकास्ट  …

बेटी बचाओ के साथ साथ बेटी दुलारो भी कहना होगा डा कुमारेन्द्र सिंग सेंगर

रंगोली ने कहा ’’सेवगर्ल चाइल्ड‘‘
जबलपुर / महिला सशक्तिकरण संचालनालय म0प्र0 शासन द्वारा संचालित संभागीय बाल भवन  द्वारा लाडो अभियान अंर्तगत आयोजित रंगों की उड़ान कार्यक्रम  अंर्तगत  जबलपुर में  उरई जिला जालोन (उत्तरप्रदेश), से पधारे बेटी-बचाओ अभियान (बिटोली कार्यक्रम के सूत्रधार एवं संचालक ) मुख्य अतिथि डा. कुमारेन्द्र सिंह सेंगर   एवं ख्याति प्राप्त संगीत निर्देशक  अमित चक्रवर्ती की अध्यक्षता में रंगो की उड़ान अंर्तगत रांगोली प्रतियोगिता का  शुभारंभ किया गया ।
मुख्य अतिथि के रूप में  डा कुमारेन्द्र सिंह सेंगर  ने बच्चों द्वारा बनायी गयी रांगोली की सराहना करते हुए कहा कि अब से तो बेटी बचाओ ,बेटी पढ़ाओ भ्रूण हत्या रोको  जैसे लाड़ो अभियान  कार्यक्रम म0प्र0 शासन द्वारा चलाए जा रहे है जो बेशक सराहनीय है। अब इसको आगे  बेटी को को प्यार करो  का नारा देना ही होगा। सांस्कृतिक तरीके  से बालभवन द्वारा जिस तरह शासकीय योजनाओं का प्रचार प्रसार करने  का प्रयास किया जा रहा है यह एक अनूठी कोशिश है जो बेहद सराहनीय है । अध्यक्षता करते हुए  श्री चक्रवर्ती जी  ने कहा कि  मुझे  छोटे छोटे  बच्चों की बड़ी बड़ी…

क्वांटम फिज़िक्स और वेदांत फिलॉसफी : सलिल समाधिया का शोध आलेख

फेसबुक पर इन दिनों मेरे मित्र सलिल समाधिया के चर्चे हैं. लोग उनकी पोस्ट का इंतज़ार करते हैं.. जबलपुरिया भाषा में कहूं तो तके रहत हैं. एक पोस्ट का मुझे भी इंतज़ार था आज आ भी गई. फेसबुक पर  इन शब्दों से शुरू पोस्ट    ये रही वो पोस्ट, जिसका सबको इंतजार था.. क्वांटम फिज़िक्स और वेदांत फिलॉसफी पर हमारा Research Article... आत्मा क्या है,चेतना क्या है, अहम क्या है, द्वैत क्या है, मृत्यु क्या है, बुद्धत्त्व क्या है ??
बुद्ध, ओशो, जे. कृष्णमूर्ति, ऑरोबिंदो, विवेकानंद क्या कहना चाहते हैं, वे किस और इंगित कर रहे हैं ??
इन गूढ़ आध्यात्मिक बातों पर 2018 तक की front-line scientific findings क्या कहती हैं ? क्या विश्व में अंतिम क्रांति "आध्यात्मिक क्रांति" सम्भव है ? मैं पूरे ऐतबार के साथ ये बात कह सकता हूं कि आने वाले युग में सिर्फ ..वही धर्म चलेगा जिसके पास पदार्थ और चेतना (matter & consciousness के