शौचालय लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
शौचालय लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

शुक्रवार, अगस्त 29

भोला का गाँव : राष्ट्रपति पुरस्कार प्राप्त गाँव.........!!

कलेक्टर साहब का गाँव में दौरा जान कर भोला खेत नहीं गया उसे देखना था की ये कलेक्टर साहब क्या....कौन .....कैसे होते हैं ?
दिन भर मेहनत मशक्कत कर के रोजी-रोटी कमाने वाला मज़दूर आज दिल पे पत्थर रख के रुका था , सिरपंच जी के आदेश को टालना भी उसकी सामर्थ्य से बाहर की बात थी सो बेचारा रुक गया , रात को गुलाब कुटवार [कोटवार ] की पुकार ने सारे पुरुषों को संकर-मन्दिर [शंकर ] खींच लिया बीडी जलाई गई.यहाँ सिरपंच ने तमाखू चूने,बीड़ी,का इंतज़ाम कर दिया था.
सरपंच:-"काय भूरे आओ कई नई...?"
"मरहई खौं जाएँ बे आएं तो आएं कक्का हम तो हैं जुबाब देबी"
"जब से भूरे आलू छाप पाल्टी को मेंबर हो गाओ है मिजाज...............कल्लू की बात अधूरी रह गई कि आ टपका भूरे.....तिरछी नज़र से कल्लू को देखा और निपट लेने की बात कहते कहते रुक गया कि झट कल्लू ने पाला बदला :"जय गोपाल भैया बड़ी देर कर दई........काय भौजी रोकत हथीं का"
"सुन कल्लू , चौपाल में बहू-बेटी की चर्चा मति करियो"
सरपंच ने मौके की नजाकत भांप बात बदली -''भैया,कल कलेक्टर साब आहैं सबरे गाँव वारे''
भूरे;'काय,कलेक्टर सा'ब का कर हैं इ तै आन खें'
सुन तो भूरे अपने गाँव में शौचालय बनने हैं , सबरे लोग लुगाई दिसा मैदान न जावें गाँव में साप-सपैयत की सुभीता हो जाए जेइ बात समझा हैं बे इतै आन खें
इधर सबके लिए बीडी जलाता भोला सरपंच की बात पे सर हिला हिला के समर्थन जता रहा था . तभी सरपंच बोला:हमाए गाँव में जित्ते बी पी एल बारे हैं सब के शौचालय पंचायत बनबाहे बाकी सब ख़ुद बनाने ?
"न सरपंच भैया ,जे नहीं चलेगा , अब भीख़म के घर है 10 एकड़ जिन्घा-जिमीन है,बहू आँगनबाड़ी की मेडम है बाको बी पी एल कारड बनाओ है, बाहे मुफत में बनी बनाई टट्टी मिल जै है और हम भीखम जित्ते बड़े अदमी नईं हमाओ नाम ........?तीरथ बोला
कल्लू ने अपना सुर तेज किया :- तुमाए दिमाक में भीखम के अलावे कोई बात नईं सूझती , अरे जब कारड बनत हटे तो तुम बड़े अपनी रहीसी झाडत रहे सब जानत हैं रेब्नू साब ने तुमाई रहीसी की बिबसता बना दइ अब रोजिन्ना तुमाओ रोबो गलत है
भीखम की साँस में साँस आई भीखम बोला:भैया तीरथ,अकल बड़ी होत है तैं भैंस को बड़ी बता राओ है.
देर रात तक सरपंच ने सारे गाँव को एक तरह से सेट कर लिया । तय हो गया किअगले दिन कोई भी गाँव की निंदा बनाम सरपंच की शिकायत नहीं करेगा । इसके बदले अगले दिन दौरे के बाद कच्ची-मुर्गा पार्टी होगी।
गाँव में अगले दिन शाम ५:०० बजे कलेक्टर साहब आए । गाँव की साफ़ सड़कें ,सुंदर स्कूल , देख के दंग रह गए गाँव वालों की स्वच्छता को लेकर समझ दारी को आई ए एस श्रेणी का अधिकारी भी चकित रह गया।
गाँव की खुल के सराहना हुई.......सरपंच ने बताया हजूर बाकी सब बी पी एल के कार्ड वाले हैं तीरथ को छोड़ के सर्वे के समय तीरथ बाहर गया था उसकी ओरत से पूछ के ग़लत जान कारी रेवेन्यू इंसपेक्टर ले गए उसका नाम नहीं जुड़ पाया । साहब हर कीमत पर जिले को निर्मल जिला बनाना चाहते थे सो एस डी एम् को हिदायत दी सुनिए इनका नाम आवेदन का परीक्षण कर जोड़ लें यदि पात्र हों तो ,अन्यथा इनका शौचालय मैं बनवा देता हूँ ।
***********************************
पूरे १४५ घर शौचालय युक्त हो गए। सरपंच के घर में पहले से ही था । टाट के परदे लगे थे इन शौचालयों में , निर्मल ग्राम की जांच करने आई टीम को सब कुछ सही मिला । सरपंच दिल्ली से इनाम पाकर लौटे । गाँव के दिन फ़िर गए , भोला ,तीरथ,कल्लू,सुंदर सबके घरों में शौचालय हैं । जिन पर ऊपर से छप्पर बना है..... इस बार बरसात में लकडी कंडे इन्हीं संडासों में रख के गाँव भर के लोगों ने पूरी बरसात सूखा इंधन पाया। भोला आज भी समझ नहीं पाया कि कलेक्टर साहब उसके गाँव में क्यों आए थे.......?
[यह पोस्ट सभी समझदार ग्राम्य जनों को सादर समर्पित है जो अपने घरों में बने शौचालयों का प्रयोग...........और पूरे गाँव को शौचालय बताते है,,,,,,,,,,,,,,]