प्रवासी दुनिया लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
प्रवासी दुनिया लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

मंगलवार, जनवरी 6

भारतीय-अमेरिकी के नाम पर अमेरिका में बिजनेस स्कूल


 एक शीर्ष निजी अमेरिकी विश्वविद्यालय ने अपने पहले बिजनेस स्कूल का नाम एक भारतीय अमेरिकी रियल इस्टेट कारोबारी के नाम पर रखा है। रॉकफोर्ड विश्वविद्यालय ने पुरी बिजनेस स्कूल की स्थापना का ऐलान किया है। इस स्कूल को फर्स्ट रॉकफोर्ड ग्रुप के संस्थापक और अध्यक्ष सुनील पुरी ने 50 लाख डॉलर का योगदान दिया है। पुरी ने रॉकफोर्ड विश्वविद्यालय से 1982 में अपनी पढ़ाई की थी और वर्ष 2013 में संस्थान ने उन्हें डॉक्टर ऑफ हयूमन लेटर्स की मानद उपाधि से सम्मानित किया था। इस संबंध में पुरी ने कहा यह मेरे और मेरे परिवार के लिए महत्वपूर्ण है कि पुरी बिजनेस स्कूल में छात्र, अध्यापक और समुदाय न केवल आपस में संवाद कर सकते हैं बल्कि वहां का पाठयक्रम भी इस प्रकार तैयार किया गया है कि विश्वविद्यालय आगे बढ़ने और क्षेत्र की अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित करने की अपनी प्रतिबद्धता पूरी कर सके। उन्होंने कहा कि यहां छात्रों को नवउत्कर्ष की अपार संभावनाएं मिलेंगी। पुरी ने कहा कि उनकी सफलता में रॉकफोर्ड कॉलेज का महत्वपूर्ण योगदान रहा है और इसके एवज में वह पुरी बिजनेस स्कूल के माध्यम से संस्थान के लिए कुछ करना चाहते हैं। पिछले सप्ताह आयोजित जिस समारोह में रॉकफोर्ड विश्वविद्यालय ने पुरी बिजनेस स्कूल की स्थापना की घोषणा की उसमें सीनेटर डिक डर्बिन भी मौजूद थे। उन्होंने कहा रॉकफोर्ड विश्वविद्यालय के लिए प्रतिबद्धता की खातिर अपने मित्र सुनील पुरी को सम्मानित करते हुए तथा पुरी बिजनेस स्कूल उन्हें समर्पित करते हुए मुक्षे खुशी हो रही है। डर्बिन ने कहा वर्ष 1979 में जब पुरी रॉकफोर्ड विश्वविद्यालय आए थे तब उनके पास न तो धन था और न समुचित शिक्षा थी। लेकिन उनके पास उम्मीद और कुछ कर गुजरने का साहस था। रॉकफोर्ड विश्वविद्यालय ने उन्हें एक मौका दिया और आज उन्होंने खुद कहा कि उनकी सफलता में संस्थान के योगदान को वह भूले नहीं हैं। मीडिया को जारी एक विज्ञप्ति में बताया गया है कि नये बिजनेस स्कूल के पाठ्यक्रम में अर्थशास्त्र, बिजनेस एंड एकाउंटिंग (ईबीए) कार्यक्रम के साथ साथ संस्थान की कारोबार संबंधी गतिविधियां भी शामिल होंगी। मुंबई में जन्मे पुरी वर्ष 1979 में रॉकफोर्ड कॉलेज में पढ़ने के लिए अमेरिका चले गए थे। वहां से उन्होंने 1982 में बैचलर ऑफ साइंस इन एकाउंटिंग में स्नातक किया।