सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

काश आज तुम होते कृष्ण


भारत का भगवान जिसने बचपन को भरपूर जिया उनके जन्मपर्व पर हार्दिक शुभकामनाएं*
💐💐💐💐
दुनियाँ भर के ऐसे पिता माता जो निर्णय थोपते तो लगता है उनके बच्चे बच्चे नहीं *प्रजा* हैं और वे *सम्राट एवम साम्राज्ञी* !
कल जब वे आए तो लगा .. आज एक नए राजा रानी आए हैं । बालमनोविज्ञान को घर की किसी सन्दूक में बंद करके उस पर अलीगढ़ी ताला मारके आने वाले ये राजा रानी मुझसे बताने लगे कि वे अपनी बेटी के लिए सब कुछ करने तैयार हैं । बेटी को रंगकर्म सीखना है । आइये इन राजा रानी और मेरे बीच हुए संवाद को देख लेते हैं -
मैं : आइये बैठिए
राजा :- हमारी बेटी को अभिनय सीखना है हमें अमुक जी ने आपकी संस्था के लिए सजेस्ट किया है
रानी :- बेटी को एक सीरियल में काम मिलेगा ऐसा बंदोबस्त हुआ है 5-6 माह बाद उसका स्क्रीन टेस्ट होगा ।
मैं :- बेटी कहाँ है ?
रानी :- स्कूल गई है ।
मैं :- ले आइये
राजा :- वहीं से कोचिंग जाएगी
मैं :- क्यों स्कूल में पढ़ाई नहीं कराते क्या ?रानी :- गणित में कमज़ोर प्रतीत होती है ।
मैं :- और विषय
राजा :- हमने सोचा सारे विषय की कोचिंग करा दें
मैं :- तो स्कूल की फीस नाहक दे रहे हो स्कूल छुड़वा दीजिये !
राजा :- (खुद को बचाने की गरज से) सर, इनको समझाया था पर ये तो ये ही हैं
इस बीच पहली बार सर शब्द सुनकर लगा गोया....आसमान का परिंदा थक कर नीचे पेड़ की शाखा की ओर आ रहा है !
रानी :- जी सर ये असंभव है , स्कूल छुड़ाना प्रैक्टिकली कैसे संभव है !
मैं :- तो फिर ट्यूशन छुड़वाई जा सकती है ?
रानी :- परन्तु क्यों ?
मैं :- वो इस लिए कि आपकी बेटी के पास समय कम है 6 माह में नाट्यकर्म सीखना है उसे 3 बजे तक स्कूल फिर ट्यूशन साढ़े चार तक और तुरंत 15 मिनिट में बालभवन पहुंचना जहां उसे कुछ सीखना है ।
राजा :- सर वो कर लेगी !
मैं :- आपकी बेटी से पूछा आपने ?
रानी - उससे क्या पूछना
राजा रानी जानतें हैं प्रजा की हक़ीक़त वे क्यों पूछेंगे । जन्म दिया, स्कूल ट्यूशन खाना वाना, सारा इन्वेस्टमेंट उनका तो बेटी से पूछताछ क्यों ? किसी ने क्या खूब कहा है कि - सत्ता को महल के बाहर की ध्वनियाँ कम ही सुनाई देती हैं । सत्ता शासक और प्रजा के बीच ऐसा ही रिश्ता
होता है । तभी तो कहा जाता है :- *जस राजा तस प्रजा*
साफ साफ समझ आ गया था कि माता पिता अब साम्राज्ञी-सम्राट बन चुके हैं । वे सर्वज्ञ हैं ऑलमाइटी हैं । कमाते हैं प्रजा पर खर्च करते हैं । धन के साथ अपने सपनों की खाद डाल कर बच्चों की फसल को बढ़ाते हैं सौदा करने के लिए प्रोडक्ट को मार्केट के हिसाब से ग्रूमिंग की अपॉरचुनिटी देनी हैं उनको । सेलेबल बनाके छोड़ेंगे । अभी तो फ़िलहाल हमने उनको सलाह दी कि हम आपकी बेटी के योग्य नहीं हम उसे निरन्तर काम में झौंकने में आपका साथ न दे सकेंगे । क्योंकि हम यहां बच्चों के लिए काम करतें हैं *आपकी बेटी रोबोट* है । रोबोट के साथ हमारे बच्चे असहज महसूस करेंगे । प्लीज़ आप इसे मुंबई के किसी संस्थान में भेज दें ।
फ़िलहाल तो हमने उनको निराश कर दिया है । पर एक बात यह अवश्य ही कही है कि बेटी से मिलवा दीजिये फिर देखता हूँ । कल फिर आएंगे वे बेटी के साथ मयूझे इंतज़ार रहेगा ।
*गिरीश बिल्लोरे मुकुल*

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

स्व.श्री हरिशंकर परसाई का एक व्यंग्य: " अपनी-अपनी हैसियत "

हरिशंकर परसाई (२२ अगस्त१९२२ - १० अगस्त१९९५) हिंदी के प्रसिद्ध लेखक और व्यंग्यकार थे। उनका जन्म जमानी, होशंगाबादमध्य प्रदेशमें हुआ था। वे हिंदी के पहले रचनाकार हैं जिन्होंने व्यंग्य को विधा का दर्जा दिलाया और उसे हल्के–फुल्के मनोरंजन की परंपरागत परिधि से उबारकर समाज के व्यापक प्रश्नों से जोड़ा। उनकी व्यंग्य रचनाएँ हमारे मन में गुदगुदी ही पैदा नहीं करतीं बल्कि हमें उन सामाजिक वास्तविकताओं के आमने–सामने खड़ा करती है, जिनसे किसी भी व्यक्ति का अलग रह पाना लगभग असंभव है। लगातार खोखली होती जा रही हमारी सामाजिक और राजनॅतिक व्यवस्था में पिसते मध्यमवर्गीय मन की सच्चाइयों को उन्होंने बहुत ही निकटता से पकड़ा है। सामाजिक पाखंड और रूढ़िवादी जीवन–मूल्यों की खिल्ली उड़ाते हुए उन्होंने सदैव विवेक और विज्ञान–सम्मत दृष्टि को सकारात्मक रूप में प्रस्तुत किया है। उनकी भाषा–शैली में खास किस्म का अपनापा है, जिससे पाठक यह महसूस करता है कि लेखक उसके सामने ही बैठा है। (साभार विकी)        परसाई जी की रचनावलियों को टेक्स्ट में आपने देखा किंतु ब्लाग की सहस्वामिनी एवम पाडकास्टर अर्चना चावजी नें इसका पाडकास्ट  …

बेटी बचाओ के साथ साथ बेटी दुलारो भी कहना होगा डा कुमारेन्द्र सिंग सेंगर

रंगोली ने कहा ’’सेवगर्ल चाइल्ड‘‘
जबलपुर / महिला सशक्तिकरण संचालनालय म0प्र0 शासन द्वारा संचालित संभागीय बाल भवन  द्वारा लाडो अभियान अंर्तगत आयोजित रंगों की उड़ान कार्यक्रम  अंर्तगत  जबलपुर में  उरई जिला जालोन (उत्तरप्रदेश), से पधारे बेटी-बचाओ अभियान (बिटोली कार्यक्रम के सूत्रधार एवं संचालक ) मुख्य अतिथि डा. कुमारेन्द्र सिंह सेंगर   एवं ख्याति प्राप्त संगीत निर्देशक  अमित चक्रवर्ती की अध्यक्षता में रंगो की उड़ान अंर्तगत रांगोली प्रतियोगिता का  शुभारंभ किया गया ।
मुख्य अतिथि के रूप में  डा कुमारेन्द्र सिंह सेंगर  ने बच्चों द्वारा बनायी गयी रांगोली की सराहना करते हुए कहा कि अब से तो बेटी बचाओ ,बेटी पढ़ाओ भ्रूण हत्या रोको  जैसे लाड़ो अभियान  कार्यक्रम म0प्र0 शासन द्वारा चलाए जा रहे है जो बेशक सराहनीय है। अब इसको आगे  बेटी को को प्यार करो  का नारा देना ही होगा। सांस्कृतिक तरीके  से बालभवन द्वारा जिस तरह शासकीय योजनाओं का प्रचार प्रसार करने  का प्रयास किया जा रहा है यह एक अनूठी कोशिश है जो बेहद सराहनीय है । अध्यक्षता करते हुए  श्री चक्रवर्ती जी  ने कहा कि  मुझे  छोटे छोटे  बच्चों की बड़ी बड़ी…

क्वांटम फिज़िक्स और वेदांत फिलॉसफी : सलिल समाधिया का शोध आलेख

फेसबुक पर इन दिनों मेरे मित्र सलिल समाधिया के चर्चे हैं. लोग उनकी पोस्ट का इंतज़ार करते हैं.. जबलपुरिया भाषा में कहूं तो तके रहत हैं. एक पोस्ट का मुझे भी इंतज़ार था आज आ भी गई. फेसबुक पर  इन शब्दों से शुरू पोस्ट    ये रही वो पोस्ट, जिसका सबको इंतजार था.. क्वांटम फिज़िक्स और वेदांत फिलॉसफी पर हमारा Research Article... आत्मा क्या है,चेतना क्या है, अहम क्या है, द्वैत क्या है, मृत्यु क्या है, बुद्धत्त्व क्या है ??
बुद्ध, ओशो, जे. कृष्णमूर्ति, ऑरोबिंदो, विवेकानंद क्या कहना चाहते हैं, वे किस और इंगित कर रहे हैं ??
इन गूढ़ आध्यात्मिक बातों पर 2018 तक की front-line scientific findings क्या कहती हैं ? क्या विश्व में अंतिम क्रांति "आध्यात्मिक क्रांति" सम्भव है ? मैं पूरे ऐतबार के साथ ये बात कह सकता हूं कि आने वाले युग में सिर्फ ..वही धर्म चलेगा जिसके पास पदार्थ और चेतना (matter & consciousness के