सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

सितंबर, 2013 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

घरेलू हिंसा से बचाव के लिये चयन में पोस्टर होर्डिंग कार्टून सहयोग

(एक)  कार्टूनिष्ट राजेश दुबे   (दो)  कार्टूनिष्ट राजेश दुबे   मध्य-प्रदेश में घरेलू हिंसा से बचाव के लिये क्या करें.. ! इस सवाल को सवाल न रहने दें.. बस आप 1090 पर डायल कर अपने खिलाफ़ हो रही हिंसा की सूचना दर्ज़ कराएं.. किसी भी स्थिति में मदद आप तक पहुंचना तय है.. .... यदि आप किसी घरेलू हिंसा की शिकार किसी अन्य को हिंसा से बचाना चाहते हैं तो भी आप 1090 पर डायल कर  हो रही हिंसा की सूचना दर्ज़ कराएं..  सूचना दाता का नाम गोपनीय रखा जाता है.. तो फ़िर क्यों न चुप्पी तोड़ी जाए...  कार्टूनिष्ट राजेश दुबे    द्वारा बनाए गये इन कार्टूनस में अंतर बताएं तथा रेटिंग करें .. सर्वाधिक रेटिंग वाले कार्टून का प्रयोग होर्डिंग / पोस्टर के रूप में किया जावेगा.. इस हेतु प्रचार सामग्री तैयार की जानी है.  पोस्टर होर्डिंग कार्टून चयन में सहयोग हेतु अपनी पसंद बताएं..

ताल लय सुर की देवी लता जी कुछ तथ्य

शहीद-स्मारक जबलपुर में प्रतिभा-पर्व के रूप में लता जी का जन्मोत्सव  मनाया गया जन्म दिवस के पूर्व  २३ सितम्बर को आज़ का दौर गीत-संगीत के लिये बेशक उकताहट का दौर है. यह दौर न तो संगीत के लिये न  गीत के लिये और न ही सुरों के लिये माकूल है. कोलावरी डी और चिकनी चमेलियों वाले दौर में कोई भी गला जो शारदा से वर प्राप्त हो जोखिम उठाना नहीं चाहेगा.  वास्तव में लोगों की रुचि में अज़ीबो ग़रीब स्थिति दिखाई दे रही है. लोगों के ज़ेहन में कोई ऐसा कैनवास ही नहीं बचा जिस पर वे संगीत के रथ पर आरुढ़ भावों की अनुकृति अपने एहसासों के ज़रिये उकेर सकें. संगीत क्या हल्ला-गुल्ला.. बस और क्या...? अब तो कोई भी  ऐसा  गीत नहीं बनता जिसे कोई गुनगुनाए.. बस शोर ही शोर . लता जी भी आहत हुईं हैं, इस तरह के वातावरण से.  आइये जानें लता जी के बारे में कुछ तथ्य -        28 सितम्बर 1929 को इंदौर में जन्मी लता जी ने अब तक 3000 से अधिक गीत गाए हैं.   फिल्म फेयर पुरस्कार ( 1958, 1962, 1965, 1969, 1993 and 1994) , राष्ट्रीय पुरस्कार ( 1972, 1975 and 1990) ,महाराष्ट्र सरकार पुरस्कार ( 1966 and 1967)1969 - पद्म भूषण, 1974

नेताजी ने सिद्धांत .. बाबा ने वेदांत तज़ा.

कुत्तों का बास अधीनस्त कुत्तों को एक तस्वीर दिखाते हुए बोला  - मित्रो इसे देखा हैं.. ? कुत्ते - (समवेत स्वरों में) अरे टामी सर फ़ोटू लेकर तलाशने की बीमारी कब से लग गई.. बास..? बास - बास इज़ आल वेज़ राईट समझे जित्ता पूछा उत्ता बताओ.. इस तस्वीर की  मैंने कापीयां कराई है.. सब ले जाओ इसकी पता साज़ी करके लेकर आओ .     सारे कुत्ते भुनभुनाते हुए निकले .. कोई उनकी भुनभुनाहट का सारांश था "बताओ भई, क्या ज़माना आ गया है.. हमारे बास को हमारी घ्राण-शक्ति पर से भरोसा जाता रहा. अरे हम एक बार सूंघ लेते तो आदमी की राख तक को सूंघ के बता देते कि किसकी भस्मी है... उफ़्फ़... बड़ा आया बास कहलाने के क़ाबिल नहीं है.. स्साला.. आदमियों के साथ रह के कुत्तव विहीन हो गया है . कुत्तों को इस क्रास बीट की बात वैसे भी न पसंद थी .बास था सो मज़बूरी थी सुनने की ... बास की सुनना संस्थागत मज़बूरी थी वरना देसी कुत्ते  किसकी सुनते हैं. बहरहाल तस्वीर वाले आदमी की तलाश में निकले कि हमारा निकलना हुआ. हम निकले निकलते ही कुछ एक जो मुहल्ले के थे अनदेखा करके निकल गये . पराए मोहल्ले वाला घूर-घूर हमें तक रहा था.हम डरे डरे

" दण्ड का प्रावधान उम्र आधारित न होकर अपराध की क्रूरता आधारित हो !"

                  भारतीय न्याय व्यवस्था ने एक बार फ़िर साबित कर दिया है कि -भारतीय न्याय व्यवस्था बेशक बेहद विश्वसनीय एवम विश्वास जनक है. दामिनी के साथ हुआ बर्ताव अमानवीय एवम क्रूरतम जघन्य था. सच कितने निर्मम थे अपराधी उनके खिलाफ़ ये सज़ा माकूल है. जुविलाइन एक्ट की वज़ह से मात्र तीन बरस की सज़ा पाने वाला अपराधी भी इसी तरह की सज़ा का पात्र होना था . किंतु मौज़ूदा कानून के तहत लिए गए निर्णय पर  टीका टिप्पणी न करते हुये एक बात सबके संग्यान में लाना आवश्यक है कि - "यौन अपराधों के विरुद्ध सज़ा एक सी हो तो समाज का कानून  के प्रति नज़रिया अलग ही होगा."       सुधि पाठको ! यहां यह कहना भी ज़रूरी हो गया है कि- यौन अपराध,  राष्ट्र के खिलाफ़ षड़यंत्रों, राष्ट्र की अस्मिता पर आघात करने वाले विद्रोहियों, आतंकवादियों के द्वारा की गई राष्ट्र विरोधी गतिविधियों से कम नहीं हैं  . अतएव इस अपराध को रोकने कठोरतम दण्ड के प्रावधान की ज़रूरत है. इतना ही नहीं ऐसे आपराधिक कार्य में अवयष्क  को उसकी अवयष्कता के आधार पर कम दण्ड देना  सर्वथा प्रासंगिक नहीं है. राज्य के विरुद्ध अपराध के संदर्भ में देखा ज

धार्मिक उन्माद से शोक ग्रस्त हूं.. क्या लिखूं दोस्तो ?

---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

आपदाग्रस्त उत्तराखंड में टी.एच.डी.सी. की मनमानी

जून की आपदा में पूरे उत्तराखंड में जगह - जगह गांव - घर - जमीनें धसकी है। किन्तु फिर भी अलकनंदा पर प्रस्तावित विष्णुगाड - पीपलकोटी जलविद्युत परियोजना  (400  मेवा )  की कार्यदायी संस्था टी . एच . डी . सी . विस्फोटो का प्रयोग कर रही है। विष्णुगाड - पीपलकोटी बांध के विद्युतगृह को जाने वाली सुरंग निर्माण के कारण हरसारी गांव के मकानों में दरारें पड़ी है ,  पानी के स्त्रोत सूखे है ,  फसल खराब हुई है। लोगो ने बांध का विरोध किया है। नतीजा यह है कि लगभग दस वर्षो बाद भी प्रभावितों की समस्याओं का निराकरण नही हुआ है। बांध का विरोध इसलिये बांध कंपनी द्वारा झूठे मुकद्दमों में फंसाने की कोशिशे जारी।  हरसारी के प्रभावित समाज - सरकार के सामने एक दिन के उपवास पर बैठे है। ताकि बांध कंपनी की मनमानी और लोगो की पीड़ा सामने आये। एक आपदाग्रस्त राज्य में टी . एच . डी . सी .  द्वारा नई आपदा लाने को स्वीकार नही किया जायेगा। गोपेश्वर में जिलाधीश कार्यालय के बाहर धरने पर शहरी विकास मंत्री एंव चमोली जिला आपदा प्रभारी श्री पीतम सिंह पंवार और श्री अनुसूया प्रसाद मैखुरी उपाध्यक्ष विधानसभा ने लोगो से मुलाकात की और