सोमवार, दिसंबर 9

बलात्कार' जैसा शब्द हमेशा के लिए गायब हो सकता है : शरद कोकास

⚫🔴🔵🔴⚫🔴

*समाज के शब्दकोष से 'बलात्कार'  जैसा शब्द हमेशा के लिए गायब हो सकता है -कुछ व्यवहारिक सुझाव दे रहे हैं शरद कोकास*

•••••••••••••••••••••••••••••

पिछले कुछ दिनों से हैदराबाद की घटना पर सोशल मीडिया में विभिन्न तबके के लोगों के , स्त्री पुरुषों के , बुद्धिजीवियों के विभिन्न तरह के विचार  पढ़ने को मिल रहे हैं । इनमें कुछ आक्रोश से भरे हैं , कुछ भावनात्मक हैं  , कुछ में स्त्रियों के लिए अनेक टिप्स हैं , सुरक्षा और आत्मरक्षा के लिये सुझाव हैं , कानूनी सहायता की बातें हैं , अब तक हो चुकी कार्यवाही की रपट है , तरह तरह के आँकड़े हैं , अरब देशों के कानून की दुहाई है आदि आदि ।

मुझे लगता है ऐसी घटनाएं जब भी घटित होती हैं और उन अनेक घटनाओं में से जो घटनाएं  सुर्खियों में आ जाती हैं उन पर चर्चा शुरू हो जाती है । फिर कुछ समय बाद सब कुछ सामान्य हो जाता है । ऐसा करते हुए बरस बीत जाते हैं ।  अभी सोलह दिसम्बर की तारीख आनेवाली है । निर्भया को सात साल हो जायेंगे ।

समय ऐसा ही बीतता जायेगा ।  एक पीढ़ी के बाद दूसरी पीढ़ी आ जायेगी । हम विभिन्न उपाय करते रहेंगे और उम्मीद करते रहेंगे कि समाज मे अब सकारात्मक परिवर्तन होगा ।

जब भी मैं इस दिशा में सोचता हूँ तो मुझे लगता है क्या हम ऐसा कुछ नहीं कर सकते कि भले ही देर लग जाये लेकिन एक या दो पीढ़ी के बाद स्थायी रूप से ऐसा कुछ परिवर्तन हो ?

कुछ उपाय मेरे मन में आये हैं और मुझे लगता है कि इन समस्याओं और उनके समाधान को लेकर एक पीढ़ी की यदि अच्छी तरह से ब्रेन ट्रेनिंग की जाए तो सम्भव है हम समाज के सामूहिक अवचेतन का परिष्कार कर सके ।

सामान्यतः एक पीढ़ी हम पन्द्रह वर्ष की मानते हैं । यदि हम इस दिशा में अभी से सक्रिय हो जायें तो क्या इस शिक्षा के माध्यम से  पन्द्रह या बीस साल बाद बलात्कार जैसा शब्द समाज के शब्दकोश से गायब हो सकता है ?

इस दिशा में सोचते हुए जो विचार मेरे मन मे आये हैं उन्हें आपके सामने रख रहा हूँ । आपकी इनसे असहमति भी हो सकती है किंतु विचार करने में क्या हर्ज है ।

यह सम्भव हो सकता है अगर हम सिर्फ इतना करें कि...

1.हम अपने बेटों को जन्म से ही *ब्रेन ट्रेनिंग* के माध्यम से यह बताएँ कि उनकी और उनकी बहनों या अन्य लड़कियों की देह में केवल जननांग का अंतर है अन्यथा वे हर बात में बराबर हैं । उन्हें जननांगों के बारे में बचपन से समझायें कि उनका उपयोग क्या है । अन्य प्राणियों की देह और मनुष्य की देह में क्या अंतर है । देह की संरचना बताते हुए बेटों को बतायें कि बेटियों को भी शरीर मे उतना ही कष्ट होता है , उतनी ही बीमारियां होती हैं । जबरन छूने से , च्यूंटी काटने से , ज़ोर से पकड़ने से, मारने से शरीर मे उतना ही दर्द होता है । चोट लगने से वैसा ही घाव होता है। अनुभूति के स्तर पर मस्तिष्क की भूमिका के बारे में उन्हें बतायें ।

2.शरीर में हार्मोन्स की भूमिका  हम बच्चों को विस्तार से नहीं समझा सकते किंतु छुपाए जाने वाले विषयों पर 'सहज होकर' तो बात कर सकते हैं ? हम उन्हें जननांगों के बारे में बताते हुए यह तो बता सकते हैं कि सजीव होने के कारण उनमें कुछ प्राकृतिक क्रियाएं एक सी घटित होती हैं यथा मलमूत्र विसर्जन , पोषण , चयापचय, प्रजनन , जन्म और मृत्यु ।

3.यह भी बतायें कि बेटों की तरह बेटियों का भी हर बात में बराबरी का हक़ है पढ़ने लिखने में, खाने पीने में, खेलने कूदने में , घर मे लाई वस्तुओं का उपभोग करने में , प्यार और दुलार पाने में भी । देह और मस्तिष्क के स्तर पर दोनों बराबर है । बच्चों के हर सवाल का जवाब दें ।

*4.उनसे झूठ नहीं बोलें कि उन्हें अस्पताल से लेकर आये हैं या कोई परी देकर गई है। उन्हें बतायें कि वे मां के पेट से आये  हैं । मां के पेट में कैसे आये यह भी बतायें और किस तरह बाहर आये यह भी । इसमें शर्म न करें यह कोई गंदी बात नहीं है । केवल इतनी सी बात समझाने से उनका जीवन बदल सकता है।*

5.जितने काम लड़कियों को सिखाते हैं उतने ही काम लड़कों को सिखाएं मसलन खाना पकाना , बर्तन कपड़े धोना, झाड़ू पोछा करना, घर साफ करना, कपड़े सीना, गाड़ी चलाना , इत्यादि ।

*6.और सबसे महत्वपूर्ण बात कि समझ आते ही उन्हें यौनिकता के बारे में बतायें। उन्हें बतायें कि स्त्री को मासिक धर्म क्यों होता है । स्वप्नदोष क्या होता है, हस्तमैथुन क्या होता है। यह प्राकृतिक आनन्द यदि उन्हें मिलता है तो इसमें कोई बुराई नहीं है । लेकिन जबरन बलात्कार में बुराई है ।उन्हें प्रजनन शास्त्र के बारे में बतायें। उन्हें बतायें कि यद्यपि सेक्स मनुष्य के जीवन का महत्वपूर्ण अंग है लेकिन जबरिया सेक्स बलात्कार कहलाता है चाहे वह पत्नी के साथ क्यों न हो । उन्हें बतायें कि यौन प्रताड़ना किसे कहते हैं । उन्हें बतायें कि यौन सुख की अनुभूति स्त्री पुरुष में अलग अलग होती है और शरीर का मन से क्या सम्बन्ध होता है । यह भी कि अपराध किसे कहते हैं।*

(माफ कीजियेगा अगर आप इन बातों में गंदगी देख रहे हों तो । यह बातें गंदी नहीं है । यदि उचित माध्यम से उन्हें यह बातें नहीं बताई जाएंगी तो बच्चे पोर्न फिल्म और साहित्य का सहारा लेंगे और 'स्वप्न दोष का इलाज' ' लिंग के टेढ़ेपन का इलाज' ' 'सफेद पानी का इलाज ' जैसे ' गुप्त ज्ञान' को दीवारों पर इश्तेहार के रूप में लिखने वाले आपके बच्चों का शोषण करेंगे । वैसे इनके लिये पुस्तकें भी उपलब्ध हैं । जैसे एकलव्य प्रकाशन भोपाल की 'बिटिया करे सवाल' जिसमे प्रजनन व मासिक धर्म सम्बन्धी जानकारी है।)

*ध्यान रहे यह बातें यौन शिक्षा या सेक्स एजुकेशन से बिल्कुल अलग हैं हम उन्हें मानसिक तौर पर तैयार करते हुए उन्हें स्त्री का सम्मान करना सिखा रहे हैं।*

7.मुझे विश्वास है बेहतर ढंग से जब उनके मां बाप , शिक्षक , प्रशिक्षक आदि द्वारा हीउन्हें यह बातें बताई जाएंगी तो वे अपनी पिछली पीढ़ी से अधिक समझदार होंगे । जब वे अच्छी तरह इन बातों को समझ लें उन्हें यह भी बतायें कि वे उनसे पहले की पीढ़ी के लोगों को यानि अपने पिताओं, चाचाओं, मामाओं, फुफ़ाओं और नाना दादाओं को भी यह बात बतायें क्योंकि 15 साल बाद भी पहले की पीढ़ी तो 30 , 45 या 60 साल की रहेगी । हो सकता है यह नई पीढ़ी अपनी पिछली पीढ़ी से कहे कि *आपने स्त्री का जितना अपमान कर लिया सो कर लिया अब करेंगे तो आपको सरे आम जुतियाया जाएगा ।*

*इस प्रोग्राम की उस वर्ग में सबसे अधिक ज़रूरत होगी जिसे हम निम्न तबका कहते हैं*

8. हो सकता है आपको यह पंद्रह साल का ब्रेन ट्रेनिंग वाला कार्यक्रम पसंद न आये तो ठीक है । इसे भी जारी रखिये  और चाहें तो इन पन्द्रह सालों में बलात्कारियों को सजा देना हो , लम्बे मुकदमे चलाने हो , मोमबत्तियां जलानी हो , धर्म के नाम पर अपराध को उचित ठहराना हो , फेसबुक से लेकर संसद तक जितनी बहस करनी हो , व्यवस्था परिवर्तन के लिए आंदोलन करना हो , स्त्रियों को आत्मरक्षा का प्रशिक्षण देना हो , यानि जो करना हो करते रहें । विरोध भी बदस्तूर जारी रहे क्योंकि अंततः हमारा उद्देश्य एक बेहतर समता मूलक समाज की स्थापना ही है ।

*शरद कोकास*

✅✅✅✅✅✅✅✅✅

कोई टिप्पणी नहीं: