शनिवार, अक्तूबर 19

नाटक समीक्षा : बरी द डेड

#बरी_द_डेड मंचन दिनांक 19 अक्टूबर 2019 स्थान- मानस-भवन,
निर्देशक:- श्री सूर्यमोहन कुलश्रेष्ठ नीपा रंगमंडल,  लखनऊ 
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
निर्देशक द्वारा प्रिय अक्षय ठाकुर का विशेष रूप से उल्लेख करना मेरे लिए गौरव की बात थी क्योंकि आप जानते हैं कि अक्षय से मेरा रिश्ता बालभवन का है और उससे अधिक यह कि अक्षय में अद्भुत अभिनय एवं कला पक्ष की समझ है वह पढ़ता भी है हिस्ट्री भी पड़ता है वर्तमान को समझता भी है कुल मिलाकर थिएटर का #अक्षयपात्र भी बनेगा यह मेरा दावा है चिरंजीव अक्षय को आशीर्वाद और शुभकामना
:::::::::::::::::::::::
         नाटक का आमन्त्रण था Vinay Amber की ओर से ही नहीं Supriya Shrivastava Amber Amber की जानिब से भी आमंत्रण पूरे फैस्टिवल के लिए भी..... परन्तु Akshay Thakur के न्योते की वजह से समय से एक घंटे पहले पहुँच  गया . सेट डिजायनर श्री जोशी जी  की तारीफ़ अक्षय ने पहले ही कर दी थी सो था भी गजब.. !
      जबलपुर नाटक के मामले में बता दूँ कि  अन्य शहरों के सापेक्ष यहां  अधिक अच्छे दर्शक देता है.. इस लिए हर निर्देशक को जो जबलपुर में नाटक पेश करने का मन बना रहे हों समझदारी से प्रस्तुति के लिए अपना श्रेष्ठतम नाटक ही लाते हैं.
      जबलपुरिया दर्शक हूट नहीं करते सताते नहीं पर निर्देशक और टीम को समझ लेते हैं. खैर मुद्दे पर आते हैं.
                      नाटक की कहानी शुरू होती है चार जिंदा सैनिकों द्वारा छह मरे हुए सैनिकों की लाशें को दफन करने की जद्दोजहद से । कब्र को 6 फीट गहरा खोजना था और फावड़े के जरिए जिंदा सैनिक यही कुछ करते नजर आ रहे थे ।
         कब्र खोदने वालों को अजीब तरीके से गुस्सा आ रहा था और वह अपनी बॉस के खिलाफ थे । जिंदा सैनिकों में नाराजगी थी वे कहते थे हुक्मरानों की वजह से हमें तकलीफ होती है । जब 6 फीट गड्ढे खुद ही जाते हैं तो दफनाने का हुक्म मिलता है किंतु इसके पहले संस्कार विधियों को अपनाने की जरूरत को नजरअंदाज नहीं किया जाता और युद्ध भूमि में दो धर्मगुरु आते हैं यहां निर्देशक ने पंडित छोड़कर पादरी और मौलवी धर्मगुरु को ही बुलाया जो समझ से परे रहा है ।
  एक सिपाही द्वारा शीघ्रता के साथ लाशों को सुपुर्द ए खाक करने की दलीलों से प्रभावित होकर दोनों धर्मगुरुओं ने सहमति दी । संवादों में बेहद चुटीला पन नजर नहीं आया जब की जरूरत भी नहीं थी उसकी परंतु कुछ जगह संवादों को चुटीला बनाने की नाकामयाब कोशिश की गई थी यहां काम किया जाना शेष है ।
मैं कहानी के जितने हिस्से की बात कर रहा हूं संवाद उतने भाग के टिप्पणी योग्य थे तो लिख दिया ।
अब बारी थी लाशों को गड्ढों में रखा गया । वहां लाशों के कराहने की आवाज सुनाई दी और फिर सारी लाशें दफन होने से इनकार करने लगी उन्होंने इंकलाब भी कर दिया ।
यहां सार्जेंट ने अपने बड़े ऑफिसर्स को इस बारे में बताया । परंतु पहली बार ऑफिसर्स अपनी दलील देकर वापस कर दिया और कहा दफनाने की कोशिश करो इसके बाद डॉक्टर को भेजकर डेथ सर्टिफिकेट भी हासिल किए । तीसरी बार तीन चरित्रों को वहां भेजा गया संभवत है एक मंत्री दूसरा ब्यूरोक्रेट और तीसरा आर्मी का हेड था । मंत्री ने लाशों से दफन हो जाने को कहा एक लच्छेदार भाषण भी दिया परंतु लाशें थीं बहुत जबर थीं  जो कि टस से मस ना हुईं । फिर उनसे जुड़ी महिलाओं को बुलाकर समझ वाया गया ।  लाशों ने उनको भी इंकार कर दिया सबकी अपनी अपनी वजह थी हर सैनिक किसी ना किसी कारण के लिए दफन नहीं होना चाहता था । यह नाटक यह प्रदर्शित करना चाहता है की सैनिक भी युद्ध नहीं चाहते । कथा किस पृष्ठभूमि में लिखी गई है वर्तमान पृष्ठभूमि से बिल्कुल इतर मामला है उम्मीद की जा सकती है कि एक सामाजिक पृष्ठभूमि पर लिखी गई कहानी हो सकती है तो कथावस्तु स्वीकार्य है । लंबे समय से युद्ध ग्रस्त देश के  सैनिक ऐसा सोच सकते हैं । परंतु  वर्तमान संदर्भों में भारत के संदर्भ में यह नाटक प्रासंगिक नहीं है यह है मै पूरी जिम्मेदारी के साथ कह सकता हूं और कह भी रहा हूं।
सूर्य मोहन कुलश्रेष्ठ जी ने अगर यह नाटक कश्मीर के संदर्भ पेश किया है तो भी समझ से परे है ।
यह मैं नहीं कह रहा हूं बल्कि दर्शकों की टिप्पणियां है समझ गई ना कि जबलपुर का दर्शक फिल्मों के मामले में कैसा भी हो लेकिन थिएटर के दर्शक एक्स्ट्रा ऑर्डिनरी ही है । नाम न बताते हुए एक दर्शक की टिप्पणी कोट करूंगा- यह नाटक तो सीधे प्रधान सेवक को भी समझाने की कोशिश करता है ।
नाटक के अंत में इस बात का उदघोष कि हम युद्ध नहीं चाहते मन को प्रभावित करता है । अगर प्रधान सेवक की बात करें तो जब जिस देश पर जैसी परिस्थिति आती है , तब उस देश का शासक वैसा ही करता है और करना भी चाहिए । अगर यह कल्पना है तो भी सेना में विद्रोह की चिंगारी को हवा देना किसी भी देश के लिए तब तक ठीक नहीं जब तक की विश्व बंधुत्व के मूल्यों को विश्व स्वयं न जीने लगे । मित्रों यहां यह समझने की जरूरत है की युद्ध तो कोई भी विचारधारा नहीं चाहती परंतु कुछ विचार धाराएं युद्ध पर आधारित ही है जो यह कहती हैं कि सत्ता का रास्ता बंदूक की गोलियों से निकलता है उन्हें भी युद्ध से तौबा कर लेनी चाहिए । आज भारत को अगर यह समझाया जा रहा है तो गैर जरूरी है क्योंकि कन्वेंशनल वार से ज्यादा खतरनाक चोरी-छिपे युद्ध करना क्या सिर्फ भारत की भौगोलिक सीमाओं को क्षतिग्रस्त देखा जा सकता है अगर हां भारत के संदर्भ में यह नाटक स्वीकृति योग्य है । निर्देशक और लेखक के बीच संवाद हीनता का होना स्वभाविक है !
मुझे नहीं लगता कि निर्देशक वैश्विक पॉलिटिकल सोच के साथ इस नाटक पेश कर रही थे बल्कि वे तो यह बताने की कोशिश कर रहे थे कि- किसी के लिए भी उपयोगी नहीं किसी को भी सुख नहीं देता युद्ध में जीता हुआ भी कभी नहीं जीतता । निर्देशक श्री सूर्य मोहन कुलश्रेष्ठ जी को बधाई नाटक कला पक्ष बहुत मजबूत है संवादों में कुछ बातों की तरफ रंगकर्मी श्री सीताराम सोनी जी के आग्रह पर विशेष ध्यान आकर्षित करना चाहूंगा उनका मत था कि- मृत्यु के बाद जिजीविषा ही नहीं होती तो दफन होने या ना होने का मामला ही नहीं बनता सोनी जी की बात आप तक पहुंचा रहा हूं । वहां बहुत दिनों के बाद फिर ज्ञान जी पंकज गुलुष जी से  रमेश सैनी जी ताम्रकार जी गंगा चरण मिश्र जी आदि से भेंट हुई ...!
हां एक बात और अंत में जो गीत हुआ उसमें एक हँसिया  जिसे एक पात्र बजा बजा कर समूह गीत गा रहीं थीं ।  सोच रहा था कमल झाड़ू पंजा आदि आदि नजर ना आए आते भी कैसे इनमें से.....

कोई टिप्पणी नहीं: