शनिवार, अगस्त 31

कश्मीर के साथ हमारी सांस्कृतिक तालमेल की जरूरत है...!!




कश्मीर से हमारे सांस्कृतिक संबंधों को  एक सुनिश्चित  स्टेटस जी के तहत  मजबूत करना जरूरी है यह संभव केवल वहां के लोगों के साथ हमारे पारिवारिक संबंधों को बढ़ाना आप कहां तक सहमत हैं बताएंगे ?
शायद आपने यह नहीं सोचा होगा कि हम कश्मीर के बारे में 1990 के बाद क्या सोच रहे हैं हालिया दौर में भारत की स्थिति को समझने के लिए यूट्यूब पर मौजूद एक वीडियो को ध्यान से देखिए सुनिए उसमें साफ तौर पर लेफ्टिनेंट जनरल सैयद अता ने क्या कहा.. !
वास्तव में सैयद साहब ने वह हकीकत बयान कर दी जो पाकिस्तानी हुक्मरानों और फौजियों की दिल में जनरल जिया उल हक ने पैदा कर दी थी सच है कि वे भारत को घेरना चाहते थे ।
उनकी अपने मकसद हैं पर हमारी कुछ मजबूरियां थी उस दौर में जिससे इस भाषण में खुलकर समझाया गया है । एक बात तो तय है कि अगर हमारी आर्थिक स्थिति उस वक्त मजबूत होती तथा हम श्रीलंका के अंदर पनप रहे आतंक और वर्गीकरण में हस्तक्षेप और सहयोग ना करते तो शायद हम बेहतर तरीके से मुकाबला कर सकते थे टेररिज्म का जो कश्मीर में पनप चुका है हमारी राजनीतिक अस्थिरता और सांस्कृतिक एक्सचेंज कश्मीर के साथ शून्य होता चला गया यही बात इस भाषण में खुलकर कही गई है लेफ्टिनेंट जनरल अतः साहब ने मुख्तसर बयां कर दिया है कि किस तरह का एनवायरमेंट उस समय भारत के साथ था डोगरा और पंडितों के खिलाफ कश्मीर में एक वातावरण निर्मित किया गया यह सच है कि इसकी भनक जरूर भारत की शीर्ष सत्ता को लगी होगी किंतु तत समय की कमजोर व्यवस्था राजनीतिक परिस्थिति सबसे ज्यादा उत्तरदाई है कश्मीर में मुस्लिम और हिंदुओं को अलग-अलग करने के लिए ।
1989 - 1990 के बाद 30 साल बीत गए अर्थात 1990 में जन्मा बच्चा अब लगभग उनतीस तीस साल का है .... उसने क्या पढ़ा होगा या उसे क्या पढ़ाया गया होगा इस पर हमें और करना था । हम सामाजिक और सांस्कृतिक रूप से कश्मीर से पूरी तरह अलग हो चुके थे और केवल और केवल कश्मीर की नई पीढ़ी को भारत के खिलाफ जो भी पढ़ाया जा रहा था उसका बेस कैंप या तो पाक ऑक्यूपाइड कश्मीर में था या फिर पाकिस्तान में । धारा 370 और 35 बी एक लाइसेंस था पाकिस्तान को कश्मीर में हस्तक्षेप करने का । कश्मीर के लोगों के साथ हमारे संबंध इस दौर में सबसे खराब रहे हैं । हां संशोधन किए देता हूं कि पिछले 30 साल से हम कश्मीर से कटे रहे हैं बावजूद इसके कि कश्मीर भारत का अविभाज्य अंग है इस नारे को बुलंद करते करते हमने इस नारे को साकार करने में कोई खास बेहतरीन पहल नहीं की ।
और इस पहल को करने के लिए जिम्मेदारी न केवल सरकार की थी बल्कि हम भी उतने ही जिम्मेदार हैं जो यह नहीं बता पाए कि कश्मीर में पाकिस्तान का कौन सा षड्यंत्र सफल हो रहा है ऐसा नहीं है कि हमारे देश के शीर्ष नेतृत्व को अथवा दिल्ली को यह नहीं मालूम था कि कश्मीर घाटी में क्या घट रहा है हमारा रॉ बाहर से खबर दे रहा था तो हमारा आंतरिक इंटेलिजेंट सिस्टम भी बाकायदा अपनी ड्यूटी निभा रहा था फिर भी हम सजग नहीं रहे परंतु कहते हैं ना कि हर काम का हो ना तभी संभव है जब उसके लिए सटीक समय आए । और 5 अगस्त 6 अगस्त 2019 का समय कुछ वैसा ही था जो हाथों में परोस गया एक उचित मौका । और इस मौके की तलाश भारत को 2017 से ही थी इस संयोग को भारत के लिए ऐतिहासिक कहा जाना गलत नहीं होगा ।
सुधी पाठकों आप समझदार हैं तो हम आपके सामने समझदारी वाली स्थितियां ही रखेंगे हम यह नहीं कहेंगे कि कश्मीर की लड़कियों को दुल्हन बनाएँगे या हम कश्मीर में प्लॉट खरीदेंगे यह संभल की बातें बल्कि हमें यह कहना चाहिए कि हम कश्मीर को वास्तविक रूप में सांस्कृतिक सामाजिक अनुबंधों के साथ अपने में जोड़ लेंगे...!
फिल्मों में देखकर बड़ा रश्क होता है कि की शिकारी पर हीरो बैठा मस्त मगन होकर संतूर सुन रहा है या एक जोड़ा खिलखिला ता हुआ डल झील में अपनी मोहब्बत का लुफ्त उठा रहा है । हां वह दिन लौट सकते हैं अगर हर भारतीय अनाधिकृत रूप से 370 और 35 बी का हटाना अनुचित ना माने ।
यहां राजनीतिज्ञ पर टिप्पणी किए बिना आम आदमी से अनुरोध है कि जब 370 हटी ही चुकी है 35b को भी दफना दिया गया है तब वहां के लोग बावजूद इसके कि 1990 का दर्द हमारे सीने में है हम उनके साथ अंतर्संबंध स्थापित करें सांस्कृतिक आदान प्रदान करें उनके कंबल खरीदें केसर भी मंगा लें अखरोट के तो क्या कहने वह भी मंगा सकते हैं प्रतिबंध कुछ नहीं है अब कश्मीर पहली बार आजाद है भारतीय फौज की हिफाजत नहीं है भले ही गंदी पत्रकारिता करने वाली ब्रिटिश ब्रॉडकास्टिंग कॉरपोरेशन को कुछ भी महसूस हो आप उसकी रिपोर्टिंग से असमत ही रहिए यह भारत के हित में है यह आपके हित में है और यह कश्मीरियत के हित में है । यहां आयातित विचारधारा की बात भी करना चाहूंगा जो यह नहीं चाहती की भारत में शांति रहे बीबीसी को इस बात का एहसास होना चाहिए कि अगर अफगानिस्तान के नागरिक शरणार्थी के रूप में दिल्ली की गली नंबर 5 में रह रहे हैं तो वे कश्मीर की तरह ही पाकिस्तान की नापाक कोशिशों के कारण शरणार्थी बने हैं । कनाडा तथा विश्व के कुछ देशों में बसे हुए लोगों को सुनिए तो पता चलेगा कि अफगानिस्तान हमसे ज्यादा सताया हुआ मुल्क है पाकिस्तान कि आई एस आई द्वारा संचालित नकली डेमोक्रेटिक संस्था पार्लियामेंट आफ पाकिस्तान से । बलूच और सिंध का हाल कम खराब नहीं है । बुरे हालात तो चाइना के हांगकांग के भी है उधर वीगर मुस्लिम कम तनाव में नहीं है किसी ना किसी दिन छोटी आंखों वाली शरारती चाइना का भी परिणाम वैसा ही होना है मैं इस बात की भविष्यवाणी नहीं कर रहा हूं पर इतना अवश्य जानता हूं की चाइना में निश्चित तौर पर एक बदलाव जरूर आएगा और वह बदलाव चाइना की जनता करेगी यह अलग बात है कि चीन के कितने हिस्से होंगे पर होंगे अवश्य ।
वैसे भारत अब एक सूत्र में बंधा दृष्टिगोचर हो रहा है और यह सूत्र है राष्ट्र की सीमाओं के बारे में सोचते रहने का एहसास आम आदमियों के सीने में घर कर गया है । कोई भी व्यक्ति जो भारत के बारे में पॉजिटिव सोचता है वह अपनी विद्यमान भारत के नक्शे में किसी भी तरह की कमतरी और झंडे में किसी भी तरह के बदलाव को स्वीकार नहीं करेगा आयातित विचारधारा अर्थात इंपोर्टेड थॉट्स कुछ भी करें कितनी भी कोशिश करें हिंदुस्तान को अब समझने के लिए विश्व भी नए सिरे से कवायद में लगा हुआ है कारण है हिंदुस्तान के लोग जिन्हें जब पॉजिटिविटी और नेगेटिविटी का अंदाज होता है तो आनंदमठ जैसे घटनाक्रमों का विस्तार हो जाता है मैं यह मानकर चल रहा हूं कि आप पाठक के रूप में आनंदमठ के घटनाक्रम को समझ पा रहे हैं आज उसे उल्लेखित करने का बेहतरीन समय है । भारत के अस्तित्व को अब किसी भी प्रकार का खतरा नहीं है पर यह निरापद स्थिति बनी रहे इसके लिए हमें भारत का विस्तार करना होगा यह सच है कि भारत सीमा विस्तार पर ध्यान नहीं देता यह भारत की विशेषता है पर भारत का विस्तार विश्व में रह रही मानवता के मन में भारत को लेकर उठ रही जिज्ञासा का लाभ उठाना होगा बौद्धिक वर्ग को भी । यहां 140 शब्दों की सीमा में बंद कर बात नहीं करनी है अगर आप इंटरनेट पर लिखते हैं तो आपको टेक्स्ट डालना होगा भारत की खूबियां सामाजिक सांस्कृतिक विकास के संबंध में खुद समझना होगा और विश्व को समझाने के लिए ऐसा करना होगा क्योंकि आप यूनिकोड के आने के बाद किसी भी भाषा में लिखने के बाद उसे विस्तार देने की समस्या नहीं है . गूगल ने ऑटो ट्रांसलेशन की सुविधा जो मुहैया करा दी है ।
सुधी पाठकों उन्हें आपको स्मरण कराना चाहता हूं कि भारत में कश्मीर के साथ सांस्कृतिक एक्सचेंज को बढ़ावा देने की जरूरत है ना कि उन्हें दोष देने की बावजूद इसके कि हमारे डोगरा एवं कश्मीरी पंडितों के साथ हुए दुर्व्यवहार और उनके प्रति हिंसक वातावरण जो उन्नीस सौ नवासी नब्बे में हुआ था हमें संस्कृति अंतर्संबंध बढ़ाने ही होंगे यही राष्ट्र हित के लिए जरूरी भी है ।

बुधवार, अगस्त 7

सुकरात विष के प्याले लिए मेरे पीछे भी लगे हैं लोग


💐💐💐💐💐💐
महान दार्शनिक सुकरात 
💐💐💐💐💐💐
( निवेदन:- यह आलेख मैं बेहद कठिन भाषा में लिख रहा हूं कठिन तो नहीं लेकिन कूट भाषा कहूंगा और उसकी वजह यह है कि आज भी प्यालों में जहर लेकर कुछ स्वयंभू न्यायाधीश मेरे पीछे दौड़ रहे हैं और यह सत्य है इसका अंदाजा आप में से किसी को भी नहीं है मैं उन जहर के प्याले लेकर दौड़ने वालों के प्रति भी बिल्कुल नाराजगी का भाव नहीं रखता लेकिन याद रहे यह आलेख उनके लिए एक ब्रह्मास्त्र है वे और उनकी पीढ़ियां भी नहीं बच सकतीं चाहे जितना कैटवॉक करने वाले के लबादे की ओट में छिपने की कोशिश करें क्योंकि मैं कृष्ण का अनुयाई हूं और धर्म युद्ध जानता हूं सतर्क हो जाइए वह जो मेरी आत्मा को देह से अलग करवाने सक्रिय है )
💐💐💐💐💐💐
सुकरात को जहर पीना पड़ा था । हर सच्चे के लिए जहर एक अमृत ही तो है । 6000 साल पहले श्रीमद भगवत गीता 10000 साल पहले रामायण उसके पहले वेद वेदांत ! क्या कह गए किसे मालूम और मालूम भी करके यह करेंगे क्या समझ ही नहीं पाते की सनातन दर्शन क्या है ? 
याद होगा आपको एलेक्जेंडर के गुरु अरस्तु ने सुकरात को बहुत दिनों तक जिंदा रखा हम सब तक पहुंचाया । पर हम इतने बेवकूफ हैं कि हम कहते हैं विश्व के प्रथम सत्यार्थी हम हैं ....! 
अरे मूरख..! विश्व का क्या आप मोहल्ले के भी नहीं हां तुमको लालबुझक्कड़ अवश्य मां सकता हूँ । 
अब मैं पूरे विश्व के नहीं पश्चिम के सत्यार्थी था सुकरात उसे प्रणाम करता हूं दर्शन की चरम परिस्थिति थी पर वह यह नहीं जानता था कि चंद्रमा सूरज और बाकी सौरमंडल देवता है या सूरज के इर्द गिर्द चक्कर लगाने वाले बालू मिट्टी के या गैस के गोले । कुछ टटपूजिए विद्वान जो विद्वान कम पुजारी ज्यादा थे ने एनेक्सावारस को युवा सुकरात के समक्ष ले गए.... जो यह दावा कर रहा था कि चंद्रमा कोई देवी नहीं है बल्कि पत्थर पहाड़ों का पिंड है और सुकरात ने अपनी राय ज़ाहिर करने से इनकार कर दिया क्योंकि तब तक उस सत्य से अभिज्ञ थे 
हाँ ने उस विद्वान से सहमति या असहमति नहीं जताई तो #पुजारी_ब्रांड विद्वान नाराज हो गए । 
एथेंस का सत्यार्थी निरंतर सत्य की तलाश में लगा रहा और वह जितने करीब पहुंचता सत्य की उजागर कर देता तो रूढ़ीवादी यूनानी लोग सत्यार्थी से दूरियां कायम करने लगते । केवल युवा और समझदार लोग ही एथेंस के सत्यार्थी के , आस पास होते । 
मित्रों यहां यह उदाहरण इसलिए दे रहा हूं कि हम chandrayaan-2 भी चुके हैं और हमें मालूम है कि वाकई चंद्रमा कोई देवी देवी नहीं है और उसके पास अपना कोई प्रकाश नहीं है ।
आज से लगभग 2500 साल पहले सुकरात ने समझ लिया था कि यह एक सौर मंडल है । 
ज्ञात तो आपको भी होगा कि... 6000 साल पहले कृष्ण ने अर्जुन और अपनी मातुश्री को अपने मुंह में ब्रह्मांड के घूमते हुए पिंड दिखा दिए थे । 
उसके भी पूर्ण नवग्रह के संबंध में बहुत ही व्यापक विश्लेषण कर चुके थे हमारे योगी । 
एथेंस का सत्यार्थी डेमोक्रेटिक सिस्टम की सीमाएं बताता साथ ही एकमात्र निरंकार ब्रह्म के अस्तित्व को रेखांकित करता तो एथेंस का अभिजात्य वर्ग हाहाकार करता । सत्यार्थी ईश्वर को राजा से भी ऊपर बताता वह किसी देवता के अस्तित्व को अस्वीकार करता जैसे मैं भी एक बात बार बार कहता हूं- कुबेर का अर्थ कोई देवता या व्यक्ति नहीं है बल्कि कुबेर वैश्विक इकोनामिक रेगुलेटरी सिस्टम है तो लोग सर खुजाने लगते हैं । अरे भाई सच ही तो कह रहा हूं हम जिन देवताओं को मानते हैं या एथेंस जिन देवताओं को मानता था या मानता है वे किसी ना किसी गतिविधि के हेड होते हैं और उन्हें किसी रहस्यमई देवी या देवता के रूप में मानना गलत तो नहीं है बल्कि अगर यह सोचकर माना जाए कि बुद्धि का देवता बुध है अर्थात बौद्धिकता का प्रतीक बुध ग्रह है तुम मुझे कोई आपत्ति नहीं पर वह देवता है कुछ अचानक चमत्कार कर देगा स्वीकार्य नहीं है अव्वल तो अंतरिक्ष का एक ग्रह है दूसरा बौद्धिकता का प्रतीक है और तीसरा वह कोई चमत्कार नहीं करने वाला आपकी हो अचानक अतुलित ज्ञान देने वाला भी नहीं है बल्कि आपकी अपने अध्ययन चिंतन योग्य मनन से वह सब कुछ हासिल हो जाएगा ज्ञान हासिल करने का कोई शॉर्टकट भी नहीं है मित्रों । 
और जिनको तुम देवी देवता मानते हो न वे रहस्यमय कभी नहीं थे और न ही रहस्यमय होंगे । वे तुम्हारे लिए अगर रहस्य वाली बातें श्रेयकर हैं तो सुनो .... एकबार मेरा साक्षात्कार वरुण देवता से हुआ सौहार्द पूर्ण शिष्टाचार के आदान प्रदान के बाद वे बोले - भाई ये मूर्ख मेरी पूजा करने आते हैं कि मुझ पर कहर ढाने ?
मैंने पूछा यानि 
वे बोले - तुम्हारे शहर का एक यायावर मेरी परिक्रमा करते वक्त मेरे आसपास के कचरे साफ कर दिया करता था । और ये नामाकूल मेरी राह में गंदगी डालते हैं । 
वरुण देव की बात से एग्री हूँ पर क्या कहूँ न अमृतलाल वेगड़ जी आब मौज़ूद हैं वर्ना साक्ष्य दिला देता । उनकी किताबें पढ़ लो सब सामने आ जाएगा । 
💐💐💐💐💐
अरस्तु डेमोक्रेटिक सिस्टम पर स्पष्ट रूप से बताते थे की अगर किसी जहाज में कप्तान को सलाह देना हो तो सलाह विशेषज्ञ से ली जावे न कि मूर्खों से वोटिंग कराई जावे तब वहां हर बात वोटिंग से तय होती थी । 
अगर ऐसा होता तो 500 के 500 जूरी मेंबर वोटिंग सुकरात के फेवर में करती सुकरात की जीवन को 220 वोट मिले और मृत्यु के फैसले को 280 लोगों ने स्वीकृति दी थी । उन लोगों से रिश्वत जरूर खाई थी जो चाहते थे कि सुकरात का अंत हो जाए सुकरात जिद्दी थे उनको मालूम था कि एथेनिका के एथेंस उनको अद्भुत प्रेम है वे यूनान और एथेंस कि लोगों से बेहद निस्वार्थ प्यार करते थे और करते भी क्यों ना एथेंस में जन्मा व्यक्ति एथेंस में ही मरना चाहेगा जैसे हम आप अपने शहर को गांव को प्यार करते हैं और उस हद तक कि इसी शहर से हम अनंत यात्रा पर निकले देश निकाली से बेहतर जहर वाली सजा को कबूल किया ।
ईशा के चार पांच सौ साल पहले की ही बात है ना और अब अभी वही स्थिति है कई सुकरातों को जहर पिलाया जाता है दफ्तरों में, मीडिया ट्रायल के रूप में, कभी-कभी तो अखबारों में, भी समाज में यानी हर जगह है लोगों को कितना नेगेटिव पोट्रेट करते हैं लोग और इसमें कितना मजा आता है इसका अंदाज़ा लगाओ । 
शेर का शिकार करना किसे पसंद नहीं दुर्भाग्य है कि शेर का शिकार शेर या शिकारी नहीं कर रहे गीदड़ करने लगे हैं आजकल...!
एक बात कहूं यहां #मैं शब्द का इस्तेमाल मैंने इस पोस्ट के प्राक्कथन में भी किया है और अंत में भी कर दिया इसका अर्थ यह ना लगाना की मैं स्वयं के बारे में कुछ लिख रहा हूं साहित्य सबके लिए लिखा जाता है ध्यान रहे मैं वही करता हूं

मंगलवार, अगस्त 6

इंतज़ार था जिस पल का उस पल को जी कर अमर हो गई

आखिरी सांस तक इंतजार था जा सांस इंतजार कर रही थी जिस पल का उस पल को जी कर अमर हो गई राष्ट्र प्रेम को अभिव्यक्त करने वाली सुषमा स्वराज जी को शत शत नमन उनका आखिरी ट्वीट पढ़ते-पढ़ते निगाह जब टीवी
पर गई विश्वास ना हो सका एक आकर्षक आध्यात्मिक व्यक्तित्व की धनी सुषमा जी को राष्ट्र की महान वक्ता थीं इंदिरा जी अटल जी जैसे वक्ताओं की सूची में शामिल भारत की  चिंतक विचारक श्रीमती सुषमा स्वराज मेरी मातुश्री स्वर्गीय प्रमिला देवी को बेहद पसंद थी वे कहती थी कि अगर विश्व में महान महिलाओं का नाम शामिल किया जाए तो उसमें इंदिरा जी के साथ साथ मैं श्रीमती सुषमा स्वराज जी को महान मानती हूं मेरी मां को भी बहुत रुचि थी महिलाओं की एंपावरमेंट की आइकॉनस को रेखांकित किया करती थी सरोजनी नायडू, सुभद्रा जी, रानी दुर्गावती, लता जी  सिरिमाओ भंडारनायके मार्गरेट थैचर सुषमा स्वराज जी और इंदिरा जी  मेरी स्वर्गीय मां की पसंदीदा एंपावर्ड विमेन आईकॉन थीं ।
      आदर्श तो आदर्श होता है वह किसी पार्टी किसी संप्रदाय किसी दल किसी रंग किसी भाषा का भी हो इससे कोई फर्क नहीं पड़ना चाहिए । क्योंकि मुझ पर मेरे बच्चों पर भी मेरी मातुश्री का गहरा प्रभाव इसलिए  मुझे  स्वर्गीय  श्रीमती सुषमा जी के निधन व्यक्तिगत सी क्षति महसूस हो रही है । आज मैं मानता हूं कि भारत ऐसी विदुषी महिलाओं को उनका स्थान अवश्य देगा । सुषमा जी का वह भाषण जो यूएन में उन्होंने दिया था और पाकिस्तान को बेनकाब किया था उस समय सुषमा जी एक वीरांगना की तरह नजर आ रही थी समकालीन महिलाओं में वह सारी बातें विकसित होती हैं उनके एंपावरमेंट से सुषमा जी उम्र भर सीखतीं रहीं । दक्षिण भारत में जब वे प्रत्याशी के रूप में गई तो उन्होंने वहां की भाषा सीख ली थी । हमारे दौर की नायिकाओं में सुषमा जी को बड़े सम्मान के साथ हर विचारधारा दल जाति से सम्मान मिलेगा यह तो तय है । जो लोग विदेश में किसी भी समस्या में होते थे सुषमा जी का हस्तक्षेप होते ही वे सुरक्षित हो जाते थे महिलाओं के प्रति संवेदनशीलता उनकी महानता को और अधिक प्रभावी बनाती हैं । मित्रों उनके जीवन से कम से कम मैं तो यह सबक ले सका हूं की आप आईडियोलॉजी से कुछ भी हो लेकिन एक बेहतर इंसान होना आपके जाने के बाद भी आप को अमरता प्रदान कर देता है । सुषमा जी जात पात से ऊपर के मुस्लिम बेटी ने भी जब पाकिस्तान से ट्वीट किया था तो उसे बचाने सुषमा जी ने जो किया वह किसे याद नहीं ओम शांति शांति शत शत नमन इस युग की महान महिला को मेरी भावपूर्ण श्रद्धांजलि आज मुझे माताजी का वह कथन भी याद आ रहा है कुछ भी बनो कितने भी बड़े बन जाओ मन से पवित्र रहना सबके प्रति समभाव रखना चाहे तुम्हें कितना भी कष्ट क्यों ना हो उन्हें विनम्र श्रद्धांजलि शत शत नमन