सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

जी एस टी : मध्यवर्ग के लिए शुभ हो सकता है

( कल यानी 1 जुलाई 2017 मिसफिट पर पर प्रकाशित आलेख के बाद आज आलेख देखिये )    
भारतीय अर्थ व्यवस्था के बनते बिगड़ते स्वरुप में कराधान का महत्वपूर्ण योगदान था. कल से भारत जी एस टी की व्यवस्था में शामिल हुआ है . परिणाम कैसे  आने हैं इसका अंदाजा तुरंत लगाना अनुचित है. भारतीय अर्थव्यवस्था को अपलिफ्ट करने में मध्यवर्ग का अभूतपूर्व स्थान है . एक जून 2015 को मैंने इसी ब्लॉग पर फिर अन्य स्थानों पर मध्यवर्ग की समस्या को खुल के सामने रखा था और उन कारणों को स्पष्ट किया था जिसमें व्यक्तिगत क्षेत्र के पास पूंजी निर्माण की अपनी अलग तरह की बाधाएं हैं 
    इन बाधाओं में सर्वाधिक समस्या कराधान एवं अचानक मूल्यों में बढ़ोत्तरी की वज़ह से होना पाया गया. शिक्षा स्वास्थ्य मध्यवर्ग के लिए सबसे खर्चीले मद हैं जो व्यक्तिगत-सैक्टर के मध्य आय वर्गीय  बड़े साझीदार को पूंजी निर्माण में सदैव बाधा उत्पन्न करते रहे हैं .

     सुधि पाठको, यही मध्यम जिसे वाम विचारक सबसे अधिक कलंकित करते हैं के युवा सर्वाधिक उत्पादता तथा विदेशी मुद्रा भण्डार के लिए कारगर एवं परिणाममूलक कार्य कर रहे हैं . लेकिन इसके लिए परिवारों को जो तकलीफें उठानी पड़तीं हैं उसे समझना बेहद ज़रूरी है. वर्तमान एवं तत्कालीन  सरकारों ने जिस तरीके से अपनी इच्छा शक्ति से एक देश एक कर की व्यवस्था लागू कराई है वो  अन्य बातों के अनुकूल होने पर मध्यमवर्ग को  पूंजी निर्माण में सहायता प्रदान करेगी . ऐसा मेरा मत है. ये अलग बात है कि 14 वर्ष लगे . तो जानिये सम्पूर्ण व्यवस्था के बदलाव में राम को भी 14 वर्ष ही लगे थे. अत्यधिक नहीं परन्तु आशावादी होना बुरा और गलत भी तो नहीं अत: मैं आशान्वित हूँ कि बदलाव अवश्य आएगा. इस बीच ये कठिनाइयां अवश्य आ सकतीं हैं कि पडौसी देश भारत की इस व्यवस्था को प्रभावित कर सकते हैं. अगर सीमा पर अस्थिरता रही और सरकार को सीमा की रक्षा के लिए कुछ अतिरिक्त व्यवस्था करनी पडी तो कठनाई अवश्य आ सकती है परन्तु भारतीय जन इस संकट में सरकार के साथ ही होंगें ऐसा सभी मानतें हैं. मध्यवर्ग जिसे वाम-सोशियो-इकानामिक्स के ज्ञाता अछूत मानते हैं उसका सबसे महान योगदान होगा. 
          अगर समूची स्थितियां अनुकूल रहीं तो जी एस टी के सुचारू क्रियान्वयन के बाद मध्यमवर्ग सबसे शक्तिशाली बनके उभरेगा. अर्थात उसके द्वारा संचित की गई  पूंजी राष्ट्रीय पूंजी के रूप में चिन्हित होगी . और विकास के सन्दर्भ में इसका उपयोग राष्ट्र के लिए सर्वाधिक लाभप्रद भी होगा.     
          
#हिंदी_ब्लागिंग के पुनरागमन पर सभी को शुभकामनाओं सहित
 http://sanskaardhani.blogspot.in/2017/06/blog-post_30.html
              


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

स्व.श्री हरिशंकर परसाई का एक व्यंग्य: " अपनी-अपनी हैसियत "

हरिशंकर परसाई (२२ अगस्त१९२२ - १० अगस्त१९९५) हिंदी के प्रसिद्ध लेखक और व्यंग्यकार थे। उनका जन्म जमानी, होशंगाबादमध्य प्रदेशमें हुआ था। वे हिंदी के पहले रचनाकार हैं जिन्होंने व्यंग्य को विधा का दर्जा दिलाया और उसे हल्के–फुल्के मनोरंजन की परंपरागत परिधि से उबारकर समाज के व्यापक प्रश्नों से जोड़ा। उनकी व्यंग्य रचनाएँ हमारे मन में गुदगुदी ही पैदा नहीं करतीं बल्कि हमें उन सामाजिक वास्तविकताओं के आमने–सामने खड़ा करती है, जिनसे किसी भी व्यक्ति का अलग रह पाना लगभग असंभव है। लगातार खोखली होती जा रही हमारी सामाजिक और राजनॅतिक व्यवस्था में पिसते मध्यमवर्गीय मन की सच्चाइयों को उन्होंने बहुत ही निकटता से पकड़ा है। सामाजिक पाखंड और रूढ़िवादी जीवन–मूल्यों की खिल्ली उड़ाते हुए उन्होंने सदैव विवेक और विज्ञान–सम्मत दृष्टि को सकारात्मक रूप में प्रस्तुत किया है। उनकी भाषा–शैली में खास किस्म का अपनापा है, जिससे पाठक यह महसूस करता है कि लेखक उसके सामने ही बैठा है। (साभार विकी)        परसाई जी की रचनावलियों को टेक्स्ट में आपने देखा किंतु ब्लाग की सहस्वामिनी एवम पाडकास्टर अर्चना चावजी नें इसका पाडकास्ट  …

बेटी बचाओ के साथ साथ बेटी दुलारो भी कहना होगा डा कुमारेन्द्र सिंग सेंगर

रंगोली ने कहा ’’सेवगर्ल चाइल्ड‘‘
जबलपुर / महिला सशक्तिकरण संचालनालय म0प्र0 शासन द्वारा संचालित संभागीय बाल भवन  द्वारा लाडो अभियान अंर्तगत आयोजित रंगों की उड़ान कार्यक्रम  अंर्तगत  जबलपुर में  उरई जिला जालोन (उत्तरप्रदेश), से पधारे बेटी-बचाओ अभियान (बिटोली कार्यक्रम के सूत्रधार एवं संचालक ) मुख्य अतिथि डा. कुमारेन्द्र सिंह सेंगर   एवं ख्याति प्राप्त संगीत निर्देशक  अमित चक्रवर्ती की अध्यक्षता में रंगो की उड़ान अंर्तगत रांगोली प्रतियोगिता का  शुभारंभ किया गया ।
मुख्य अतिथि के रूप में  डा कुमारेन्द्र सिंह सेंगर  ने बच्चों द्वारा बनायी गयी रांगोली की सराहना करते हुए कहा कि अब से तो बेटी बचाओ ,बेटी पढ़ाओ भ्रूण हत्या रोको  जैसे लाड़ो अभियान  कार्यक्रम म0प्र0 शासन द्वारा चलाए जा रहे है जो बेशक सराहनीय है। अब इसको आगे  बेटी को को प्यार करो  का नारा देना ही होगा। सांस्कृतिक तरीके  से बालभवन द्वारा जिस तरह शासकीय योजनाओं का प्रचार प्रसार करने  का प्रयास किया जा रहा है यह एक अनूठी कोशिश है जो बेहद सराहनीय है । अध्यक्षता करते हुए  श्री चक्रवर्ती जी  ने कहा कि  मुझे  छोटे छोटे  बच्चों की बड़ी बड़ी…

इंतज़ार था जिस पल का उस पल को जी कर अमर हो गई

आखिरी सांस तक इंतजार था जा सांस इंतजार कर रही थी जिस पल का उस पल को जी कर अमर हो गई राष्ट्र प्रेम को अभिव्यक्त करने वाली सुषमा स्वराज जी को शत शत नमन उनका आखिरी ट्वीट पढ़ते-पढ़ते निगाह जब टीवी
पर गई विश्वास ना हो सका एक आकर्षक आध्यात्मिक व्यक्तित्व की धनी सुषमा जी को राष्ट्र की महान वक्ता थीं इंदिरा जी अटल जी जैसे वक्ताओं की सूची में शामिल भारत की  चिंतक विचारक श्रीमती सुषमा स्वराज मेरी मातुश्री स्वर्गीय प्रमिला देवी को बेहद पसंद थी वे कहती थी कि अगर विश्व में महान महिलाओं का नाम शामिल किया जाए तो उसमें इंदिरा जी के साथ साथ मैं श्रीमती सुषमा स्वराज जी को महान मानती हूं मेरी मां को भी बहुत रुचि थी महिलाओं की एंपावरमेंट की आइकॉनस को रेखांकित किया करती थी सरोजनी नायडू, सुभद्रा जी, रानी दुर्गावती, लता जी  सिरिमाओ भंडारनायके मार्गरेट थैचर सुषमा स्वराज जी और इंदिरा जी  मेरी स्वर्गीय मां की पसंदीदा एंपावर्ड विमेन आईकॉन थीं ।
      आदर्श तो आदर्श होता है वह किसी पार्टी किसी संप्रदाय किसी दल किसी रंग किसी भाषा का भी हो इससे कोई फर्क नहीं पड़ना चाहिए । क्योंकि मुझ पर मेरे बच्चों पर भी मेरी मा…