शनिवार, दिसंबर 24

मुझे रियलस्टिक फ़िल्में ही पसंद हैं जैसे ... दंगल,

यूँ तो मुझे फ़िल्में देखना सबसे कष्टदाई काम लगता है. क्योंकि बहुधा फ़िल्में रियलिटी से दूर फैंटेसी में ले जातीं हैं. परन्तु हालिया रिलीज़ फिल्म दंगल की आन लाइन टिकट बुक कराने मेरी बेटी ने एमस्टर्डम से पूछा तो सबसे पहले मैंने उसके कथानक की जानकारी ली . फिर कथानक सुनकर कर  यकायक मुझे कामनवेल्थ गेम्स की महिला कुश्ती में भारत की  असाधारण विजय का समाचार धुंधला सा याद आया. किसी अखबार में विजेता गीता के पिता के जूनून की कहानी याद आई पर बस इतनी की एक पिता ने अपनी बेटियों को लड़कों के साथ भी कुश्ती के मुकाबले में खड़ा किया .जो सामाजिक परम्पराओं को तोड़ने की पहल थी. हिन्दी पट्टी वाले राज्यों में  हरियाणा जैसे प्रांत की स्थिति बेटियों के मामले लगभग सामान ही है. और वहां से आयकानिक रास्ते निकल पड़ें तो तय है बदलाव करीब है. आज जब  की फिल्म दंगल देखी तो लगा लम्बी लड़ाई लड़नी होती है बदलाव के लिए . 
यहाँ पाठकों से पूरी शिद्दत से कहना चाहता हूँ कि आप फिल्म  दंगल अवश्य देखिये. आपकी सोच अवश्य बदलेगी. और अगर  #Geeta_Phogat (गीता फोगट)   की बायोपिक Dangal को देखकर भी नज़रिया न बदला तो कुछ भी न बदल पाएगा.. सभी को  अपना विज़न बदलना ही होगा. खुद के लिए जैसा भी जितना भी सोचो कोई हर्ज़ नहीं पर किसी को कमजोर साबित करने की कोशिशों में मत लगे रहा करो .........                          Amir Khan का विज़न हमेशा व्यापक रहा है.. बहुधा लोग समानता के हिमायती नहीं होते. 
दंगल बायोपिक देखने के बाद मुझे जीवन का हर वो दृश्य क्रमश: सामने से गुज़रता आया जो मुझे एहसास कराने के लिए सामने होता था कि मैं औसत से कम हूँ. बेशक ये है पर औसत से कम होने के मायने क्या हैं.. ?
ये एक बड़ा सवाल है. कठोर परिश्रम से लक्ष्य को साधना बेहद कठिन है . और ये तब अधिक जिल्लतों भरा होता है जब कि आप पुरातन से प्रतिष्ठित मान्यताओं को तोड़ने पर आमादा हों. एक तो मान्यता टूटतीं नहीं दूजे आपको आम सहमति तो क्या आप बदलाव की वज़ह से उपेक्षा और तिरस्कार भोगतें हैं. महावीर फोगट उन में से एक मिसाल है. ऐसे चरित्र कम ही नज़र आते हैं वर्ना सामान्य तौर पर "जैसी बहे बयार पीठ पुनि तैसी कीजे" का अनुशरण करते हैं. बायोपिक तो एक बहाना है ...... मुद्दा तो यह है कि समानता के लिए बदलाव को कोई स्वीकारता क्यों नहीं.. स्वीकारे न तो भी मुझे कोई एतराज़ नहीं  ऐसे प्रयोग आप जारी रखिये ऐसे कथानक आपको बदलाव के लिए आत्मशक्ति देते हैं. यदि आप बदलाव न भी करें तो कम से कम बदलाव लाने वाले को अपमानित करना भी भूल जाएंगे . 

     

कोई टिप्पणी नहीं: