मंगलवार, दिसंबर 18

रैपिस्ट मस्ट बी हैंग्ड टिल डैथ

        
 सरकार को नारी के साथ बलात्कार उसके खिलाफ़ सबसे जघन्य हिंसा मानने में अब देर नहीं करनी चाहिये.नारी की  गरिमा की रक्षा के लिये बलात्कार को किसी भी सूरत में हत्या से कमतर आंकना सिरे से खारिज करने योग्य है.  घरों में काम करने वाली नौकरानियां, दफ़्तरों का अधीनस्त अमला, इतना ही नहीं उंचे पदों पर काम कर रहीं महिलाएं तक भयभीत हैं. मुझसे नाम न लिखने की शर्त पर एक महिला अधिकारी कहतीं हैं-"हम कितना भी दृढ़ता दिखाएं आखिरकार औरत हैं पल भर में हमारा हौसला खत्म करने में कोई लापरवाही नहीं करता पुरुष प्रधान समाज . "
 ब्लाग जगत की महत्वपूर्ण लेखिका Aradhana Chaturvedi (आराधना चतुर्वेदी रिसर्च स्कालर  )  खुद भयभीत हैं -"मैं दिल्ली में रहती हूँ. अकेले बाहर आती-जाती हूँ. शाम को जल्दी आने की कोशिश करती हूँ, पर सर्दियों में तो छः बजे अँधेरा हो जाता है. 
अभी तक शॉक्ड हूँ कल की घटना से. बार-बार लग रहा है कि ये घटना मेरे साथ भी हो सकती है. सोच रही हूँ वेंटीलेटर पर गंभीर हालत में पड़ी उस लड़की के बारे में. तबीयत ठीक नहीं, बाहर भी नहीं जा सकती...आंदोलन कर रहे जे.एन.यू. के सभी छात्रों के साथ हूँ."
                                           मेरे मित्र कुमारेंद्र सिंह सेंगर जी की  एक बात विचारणीय है-"जब समाज में हर एक बात को सेक्स से जोड़ कर देखा जाने लगा है, सेक्स को, कामुकता को, स्त्री-देह को व्यापक सौन्दर्य-बोध के साथ परोसा जाने लगा है,गानों में, खेलों में, कपड़ों में, खाने में, स्वास्थ्य में, शिक्षा में, वाहनों में, सौन्दर्य-प्रसाधनों में..........लगभग सभी जगहों पर, सभी क्षेत्रों में कामुकता को, देह को, सेक्स को प्रमुखता दी जा रही हो वहां आप मनोविकारी लोगों से संयम की अपेक्षा कैसे कर सकते हैं ?"
    अखबारों और मीडिया घरानों को चाहिये कि औरतों के खिलाफ़ करतीं खबरों तस्वीरों को छापना बंद करें. अंतरजाल पर भी कई ऐसी खबरिया साइट्स हैं जो सन्नी-लियोन और पूनम पांडॆ ब्रांड मामलों.और. तस्वीरों को  टाप रेटेट बता कर लाइम लाइट में रखतीं हैं.. कुमारेंद्र सिंह सेंगर जी का इशारा इनकी ओर भी है.. ध्यान से देखें तो लगता है कि कुमारेंद्र जी सेक्स के व्यवसायिक अनुप्रयोग को भी बलात्कार की एक सीढ़ी बता रहें हैं.. मीडिया हाउसेस के लिये भी आत्म-चिंतन का दौर आ गया है.    
                                                उनकी इस सवालिया टिप्पणी पर आत्म-चिंतन करना होगा. व्यापारी होती जा रही सामाजिक संरचना में केवल चेहरों.. कामुकता को बढ़ावा देते इश्तहारों , फ़्रंट पेज पर सेक्स को स्थान देते रिसाले, बेशक़ उत्प्रेरक बन जाते हैं. किंतु चारित्रिक विकास का दौर में माता पिता अपनी ज़वाबदेही से मुकर नहीं सकते. मुन्नी-शीला, फ़ेविकोल, वाले गीतों पर जब बच्चा थिरकता है तो  अभागे माता पिता बच्चे के इस कुरूप विकास को महिमा-मंडित करते नज़र आते हैं. उफ़्फ़ क्यों नहीं समझ पा रहा है  90 प्रतिशत भारतीय (शायद काटजू साहब वाला ) कि हम कुछ गलीच बो रहें हैं औलादों के ज़ेहन में. ?
      
           प्रयास ब्लाग के युवा लेखक दीपक तिवारी अपने     एक आलेख में लिखते हैं कि-" राष्ट्रीय अपराध रिकार्ड ब्यूरो के सिर्फ 2011 के आंकड़ों पर ही नजर डाल लें तो तस्वीर काफी हद तक साफ हो जाती है कि आखिर महिलाएं कितनी सुरक्षित हैं। महिलाओं के साथ बलात्कार, शारीरिक उत्पीड़न और छेड़छाड़ के साथ ही महिलाओं के अपहरण और घर में पति या रिश्तेदारों के उत्पीड़न के मामलों की लिस्ट काफी लंबी है। साल 2011 में हर रोज 66 महिलाएं बलात्कार की शिकार हुई। एनसीआरबी के अऩुसार 2011 में बलात्कार के 24 हजार 206 मामले दर्ज हुए जिनमें से सजा सिर्फ 26.4 फीसदी लोगों को ही हुई जबकि महिलाओं के साथ बलात्कार के अलावा उनके शारीरिक उत्पीड़न, छेड़छाड़ के साथ ही उनके उत्पीड़न के 2 लाख 28 हजार 650 मामले दर्ज किए गए जिसमें से सजा सिर्फ 26.9 फीसदी लोगों को ही हुई। ये वो आंकड़ें हैं जिनमें की हिम्मत करके पीड़ित ने दोषियों के खिलाफ पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराई…इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि असल में ऐसी कितनी घटनाएं घटित हुई होंगी क्योंकि आधे से ज्यादा मामलों में पीड़ित समाज में लोक लाज या फिर दबंगों के डर से पुलिस में शिकायत ही नहीं करती या उन्हें पुलिस स्टेशन तक पहुंचने ही नहीं दिया जाता है। सबसे बड़ी बात ये है कि आंकड़ें इस पर से पर्दा हटाते हैं कि इन मामलों में कार्रवाई का प्रतिशत सिर्फ 25 है…यानि कि 75 फीसदी मामले में या तो आरोपी बच निकले या फिर ये मामले सालों तक कोर्ट में लंबित पड़े रहते हैं और आरोपी जमानत पर खुली हवा में सांस ले रहा होता है।अगर 71.1 प्रतिशत दरिंदे खुले आम घूम रहें हों तो कौन भयभीत न होगा. 
                      यौनिक अपराधों की सुनवाई केवल 30 दिन से अधिक का वक़्त नहीं मिलना चाहिये. सजा मौत से कम न हो वरना रेशमा जैसी नारी  जीवन भर एक आक्रांत जीवन जियेगी शायद मुस्कुराहट लौट न पाए कभी . बेटियों के खिलाफ़ होते समाज को वापस नेक चलनी की राह दिखाने के लिये अगर कठोर क़ानून न बने तो समाज का पतन दूर नहीं होगा. 
                  मेरे व्यक्तिगत राय ये भी है कि एक ऐसा कानून बनाया जाये जो औरत के खिलाफ़ जिस्मानी ज़्यादती को हत्या के समान कारित माने. सच्चे पुरुष कभी भी किसी नारी के आत्म सम्मान की हत्या नहीं करते. बलात्कारी सदैव हत्यारा होता है. कसाब सरीखा आतंकी होता है... उससे बस  जितना जल्द हो सके दुनिया से बिदाई "फ़ांसी के तख्त पर" दे देनी चाहिये. 
                     मैं एक कवि हूं.. कितना नर्म हूं फ़ांसी की मांग करना मेरी प्रकृति के खिलाफ़ है पर सामाजिक संस्कारों वश मुझे लगता है कि -"जो नारी जैसी नर्म हृदया के हृदय को घात करे उसे जीने का अधिकार देना सर्वदा अनुचित है."
                                           बकौल विचारक पत्रकार  श्री  रवींद्र बाजपेई -"दिल्ली में बलात्कार के आरोपियों को फांसी पर टांगने की मांग चारों तरफ गूँज रही है लेकिन जिस देश में आतंकवादियों को फांसी पर लटकाने में दस बरस का वक़्त लगता हो वहां इस तरह के अपराधियों को उनके कुकर्म की सजा देने में कितनी देर होगी यह विचारणीय है।"  
          सवालों पर एक दीर्घ विराम लगा सकती राजनैतिक इच्छा शक्ति. 


वो जितना रोई होगी बस में दिल्ली की लड़की मेरी आंखों के आंसू भी सुखाए उसी पगली ने


हां सदमा मग़र हादसा
देखा नहीं कोई !
और न तो  साथ मेरे
जुड़ती है कहानी हादसे जैसी......!!
मग़र नि:शब्द क्यों हूं..?
सोचता हूं
अपने चेहरे पे
सहजता लांऊ तो कैसे ?
मैं जो महसूस करता हूं
कहो बतलाऊं वो कैसे..?
वो जितना रोई होगी बस में दिल्ली की लड़की
मेरी आंखों के आंसू भी सुखाए उसी पगली ने
न मैं  जानता उसे न पहचानता हूं मैं ?
क्या पूछा -"कि रोया क्यूं मैं..?"
निरे जाहिल हो किसी पीर तुम जानोगे कैसे
ध्यान से सुनना उसी चीख
सबों तक आ रही अब भी
तुम्हारे तक नहीं आई
तो क्या तुम भी सियासी हो..?
सियासी भी कई भीगे थे सर-ओ-पा तब
देखा तो होगा ?
चलो छोड़ो न पूछो मुझसे
वो कौन है क्या है तुम्हारी अब वो कैसी है ?
मुझे मालूम क्या मैं तो 
जी भर के 
दिन भर रोया हूं
मेरे माथे पे 
बेचैनियां
नाचतीं दिन भर  !
मेरा तो झुका है 
क्या तुम्हारा 
झुकता नहीं है सर..?

 सुनो तुम भी
दिल्ली से आ रहीं चीखैं.. ये चीखैं
हर तरफ़ से एक सी आतीं.. जब तब 
तुम सुन नहीं पाते सुनते हो तो गोया 
समझ में आतीं नहीं तुमको 
समझ आई तो फ़िर किसकी है 
ये तुम सोचते होगे
चलो अच्छा है जानी पहचानी नहीं निकली !!
हरेक बेटी की आवाज़ों फ़र्क  करते हो
अगर ये करते हो ख़ुदा जाने क्या महसूस करते हो..?
हमें सुनना है  हरेक आवाज़ को 
अपनी समझ के अब 
अभी नहीं तो बताओ 
प्रतीक्षा करोगे कब तक
किसी पहचानी हुई आवाज़ का 
रस्ता न तकना तुम
वरना देर हो जाएगी 
ये बात समझना तुम !!
                     
     

9 टिप्‍पणियां:

vandana gupta ने कहा…

आपके कथन से सहमत हूँ ……………http://redrose-vandana.blogspot.in/2012/12/blog-post_19.html

Manoj ने कहा…

इस पूरे मुद्दे पर मैने एक जगह एक पोस्ट पढी है आप भी अवश्य पधारे और अपनी राय दे socialissues.jagranjunction.com/2012/12/19/%e0%a4%9c%e0%a4%ac-%e0%a4%a4%e0%a4%95-%e0%a4%ac%e0%a5%87%e0%a4%b9%e0%a5%8b%e0%a4%b6-%e0%a4%a8%e0%a4%b9%e0%a5%80%e0%a4%82-%e0%a4%b9%e0%a5%81%e0%a4%88-%e0%a4%a4%e0%a4%ac-%e0%a4%a4%e0%a4%95-%e0%a4%9a/

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
--
आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शुक्रवार (21-12-2012) के चर्चा मंच-११०० (कल हो न हो..) पर भी होगी!
सूचनार्थ...!

काजल कुमार Kajal Kumar ने कहा…

हैंग= हैंग्ड

Siddharth Srivastava ने कहा…

Promoted your post.
~ Tech Blogger from your City - TechSiddharth.com

Virendra Kumar Sharma ने कहा…



Virendra Kumar SharmaDecember 21, 2012 2:05 PM
नारियां हमारे समाज में महत्वपूर्ण पारिवारिक इकाई रहीं हैं .चाहे वह किसी वंश या कुल की हों .उनकी मर्यादा रक्षा की सामन्य धारणा हर पुरुष के मन में होती थी .उसकी रक्षा करते समय कोई

शीलवान पुरुष उनकी जाती नहीं पूछा करता था .भारतीय मन की इस मर्यादा को अगर किसी ने खंडित किया है तो उन राजनीतिक व्यक्तियों ने चाहे वह पुरुष हों या नारी ,जो अपनी सुरक्षा के लिए

पचासों अंग रक्षक साथ लेकर चलतें हैं .उन्हें ऐसे नैतिक मुद्दों पर घडयाली आंसू बहाने और आश्वासन देने का कोई हक़ हासिल नहीं है .चाहे फिर वह शीला दीक्षित हों या फिर सोनिया गांधी .उन बबुओं

के बारे में क्या कहा जाए जो भारत भर के युवाओं से मिलते घूम रहें हैं .क्या सिर्फ वोट के लिए युवाओं के बीच में घूमना बस यही उद्देश्य है ?उस कथित युवा सम्राट की अब तक तो कोई टिपण्णी भी नहीं

आई .

एक प्रतिक्रिया ब्लॉग पोस्ट :41. बलात्कार की स्त्रीवादी परिभाषा


डॉ.जेन्नी शबनम
अजीब होती है हमारी ज़िंदगी । शांत सुकून देने वाला दिन बीत रहा होता है कि अचानक ऐसा हादसा हो जाता की हम सभी स्तब्ध हो जाते हैं । हर कोई किसी न किसी दुर्घटना के पूर्वानुमान से सदैव आशंकित और आतंकित रहता है । कब कौन-सा वक़्त देखने को मिले कोई नहीं जानता न भविष्यवाणी कर सकता है । कई बार यूँ लगता है जैसे हम सभी किसी भयानक दुर्घटना के इंतज़ार में रहते हैं, और जब तक ऐसा कुछ हो न जाए तब तक उस पर विमर्श और बचाव के उपाय भी नहीं करते हैं …
Reply

Virendra Kumar Sharma ने कहा…

शीला सोनिया तमाम सांसद और उनके बच्चे इस देश में सुरक्षित हैं वी आई पी दर्जा है इनका ,आम आदमी के साथ सिर्फ कांग्रेस का दिखाऊ हाथ है, सुरक्षा नहीं .सभी नारियां दलित पद दलित नहीं

हैं .यहाँ सुरक्षा सिर्फ नेताओं के लिए है बाकी सब विकलांग हैं .किसी के पास जेड सिक्युरिटी है किसी के पास जेड प्लस ,क्या खतरा है इन ललुवों को ,इनके एक दर्जन लाल और लालियों को ?क्या

खतरा है प्रियंका गांधी को ?और अगर नहीं है तो क्यों नहीं है ?.क्यों एक सामन्य सुरक्षा भी देश की आधी आबादी को उपलब्ध नहीं है .बुनियादी सवाल पुलिस सुरक्षा का एक तरफ़ा इस्तेमाल है

700

सांसदों और हजारों विधायकों द्वारा ,विषम इस्तेमाल है यह सुरक्षा उपकरण का ,आदमी एक सुरक्षा कर्मी पचास .आदमी है या नर पिशाच ?

एक प्रतिक्रिया ब्लॉग पोस्ट :

पुराने ज़माने की माँ
Sudhinama
तुम्हारे लिए मैं आज भी वही पुराने ज़माने की माँ हूँ मेरी बेटी तुम चाहे मुझसे कितना भी नाराज़ हो लो तुम्हारे लिए मेरी हिदायतें और पाबंदियाँ आज भी वही रहेंगी जो सौ साल पहले थीं क्योंकि हमारा समाज, हमारे आस-पास के लोग, औरत के प्रति उनकी सोच, उनका नज़रिया और उनकी मानसिकता आज भी वही है जो कदाचित आदिम युग में हुआ करती थी ! आज कोई भी .
ReplyDelete

Virendra Kumar Sharma ने कहा…

Shyam Skha Shyam Moudgil
काँच का बस एक घर है लड़कियों की जिन्दगी
और काँटों की डगर है लड़कियों की जिन्दगी

इस नई तकनीक ने तो है बना दी कोख भी
आह कब्रिस्तान भर है लड़कियों की जिन्दगी

बाप मां के बाद अधिकार है भरतार का
फर्ज का संसार भर है लड़कियों की जिन्दगी

Virendra Kumar Sharma ने कहा…

माँ बहन बेटी कोई भी सुरक्षित नहीं है इस व्यवस्था में .

युवा संस्थाएं तो इस दरमियान बहुत बनी हैं लेकिन सब की सब वोट

बटोरने के लिए ,मौज मस्ती के लिए .चरित्र निर्माण की बात करने वाला

श्रवण कुमार की बात करने ,देश निर्माण की बात कहने करने वाला इस

देश में साम्प्रदायिक हो जाता है और गिलानी जैसों को पाकिस्तान के राष्ट्र पति के पास अपने विरोधी के पास भेजने वाला हो

जाता है सेकुलर .भारत धर्मी समाज साम्प्रदायिक ,"वैष्णव जन

तो तैने कहिये " तथा "रघुपति राघव राजा राम "गाने वाला इस देश में साम्प्रदायिक घोषित और मुसलमानों का मसीहा सेकुलर हो

जाता है .मुसलमानों का वोट का अधिकार एक बार अवरुद्ध करके देखो .पता लगाओ इसके बाद कितने मुलायम और ललुवे बचते हैं

इनके हिमायती ,कथित सेकुलर .


कोंग्रेस से पूछा जाए उसने 65 सालों में कैसा भारत निर्माण

किया ऐसा

जहां औरत के जो किसी की बेटी किसी की प्रेमिका किसी की माँ है उसकी अंतड़ियां सरे आम बलात्कृत करके फाड़ दी जाती हैं .

बलात्कारियों के साथ इस सरकार को भी फांसी दी जानी चाहिए भले

प्रतीकात्मक हो इसके पुतले को फांसी के फंदे पे चढ़ाया जाए .

शीला और सोनिया रहतीं दोनों दोनों दिल्ली में ,

सरे आम फटतीं अंतड़ियां औरत की अब दिल्ली में .


भारत निर्माण

कैसा भारत निर्माण करना चाहतें हैं हम .शिक्षा सेहत को लेकर हमारे क्या विचार हैं धारणाएं हैं ?कुछ हैं भी या

नहीं .सात सौ सांसद है इस देश में और किसी को नहीं मालूम वह चाहते क्या हैं ?

सिर्फ वोट बैंक ?स्विसबैंक एकाउंट ?खुद अपनी और सिर्फ अपनी वी आई पी सुरक्षा .

दिल्ली के रंगा बिल्ला काण्ड के बाद आज भारत फिर विचलित है .उन्हें तो सातवें दिन फांसी दे दी गई थी .अब

सरकार हर मामले में इतना कहती है क़ानून को अपने हाथ में मत लो .क़ानून को अपना काम करने दो .तुम

हस्तक्षेप मत करो .क़ानून

अपना काम


करेगा .

यदि औरतों को आप हिफाज़त नहीं दे सकते तो रात बिरात उनके बाहर न निकलने का क़ानून बना दो .या फिर

उन्हें घर से ले जाने और वापस छोड़ने का जिम्मा उनसे काम लेने वाले लें .शीला

दीक्षित ऐसी हिदायत एक मर्तबा दे भी चुकीं हैं .रात बिरात घर से बाहर न निकलने की .जब घाव हो जाता है तो

सांसद मरहम तो लगाने आ जातें हैं

लेकिन ये क़ानून बनाने वाले ऐसी व्यवस्था नहीं कर पाते कि घाव ही न हो .

किसी फिजियो की अंतड़ियां बलात्कारी क्षति ग्रस्त न कर सकें .

इस दरमियान इन्होनें हमारे सांसदों ने एक सामाजिक हस्तक्षेप को ज़रूर समाप्त करवा दिया यह कह कह कर:

किसी को भी कानून अपने हाथ में न लेने दिया जाएगा .

वह जो एक तिब्बत था वह चीन के हमलों से भारत की हिफाज़त करता था .ऐसे ही सामाजिक हस्तक्षेप एक

बफर था .काला मुंह करने वाले शातिर बदमाशों को मुंह काला करके जूते मारते हुए पेशी पे ले जाना चाहिए .जूते

बहु बेटियों से ही लगवाने चाहिए शातिर मांस खोरों को .ताकि इन्हें कुछ तो शरम आये .

.आज स्थिति बड़ी विकट है . सवाल बड़े गहरे हैं सामाजिक सरोकारों के औरत को सरे आम कुचलने वाले रफा

दफा

कर दिए जातें हैं कुछ ले देके छूट जाते रहें हैं .

व्यवस्था ने पुलिस को नाकारा बना दिया है अपनी खुद की चौकसी में तैनात कर रखा है .ज़ेड सेक्युरिटी लिए

बैठें हैं सारे वोट खोर .बेटियाँ ला वारिश बना दी गई हैं अरक्षित कर दी गईं हैं .खूंखार दरिन्दे छुट्टे घूम रहें हैं .अब

तो इन्हें भेड़िया कहना भेड़िये को अपमानित करना है .हैवानियत में ये सारी हदें पार कर गएँ हैं .

सारी संविधानिक संस्थाएं तोड़ डाली गईं हैं .संसद निस्तेज है .निरुपाय है .उसके पास भारत निर्माण का कोई

कार्यक्रम कोई रूप रेखा नहीं है .सी बी आई का काम सत्ता पक्ष के इशारे पर माया -मुलायम मुलायम को

संसद तक घेर के लाना रह गया है .

अब तो इस तालाब का पानी बदल दो सब कमल के फूल मुरझाने लगे हैं ,

सिर्फ हंगामा खड़ा करना मेरा मकसद नहीं है ,लेकिन ये सूरत बदलनी चाहिए .